Good Friday: जानिए गुड फ्राइडे पर्व का ख़ास महत्व

गुड फ्राइडे के दिन गिरजाघरों में विशेष प्रार्थना आयोजित होती है। ईसाई समुदाय के लोग सुबह की प्रार्थना में शामिल होते हैं।

 
IMAGE: EDUDWAR
 शुक्रवार को ईसा मसीह ने अपने प्राण त्याग दिए थे।

उत्तर प्रदेश, Digital Desk: ईसाई धर्म (Christain Religion) में गुड फ्राइडे (Good Friday) का बड़ा महत्व है। ईसा मसीह को जब मृत्युदंड दिया गया था, वह दिन शुक्रवार का था। उन पर राजद्रोह का आरोप लगाया था और फिर उनको सूली पर चढ़ाया गया था। उस शुक्रवार को ईसा मसीह ने अपने प्राण त्याग दिए थे। तब से उस शुक्रवार को गुड फ्राइडे के रुप में मनाते हैं। गुड फ्राइडे को ब्लैक फ्राइडे, होली फ्राइडे या ग्रेट फ्राइडे कहा जाता है। इस साल गुड फ्राइडे 15 अप्रैल को है। गुड फ्राइडे ईस्टर संडे के पूर्व पड़ने वाला शुक्रवार होता है। आइए जानते हैं, गुड फ्राइडे के इतिहास के बारे में।

गुड फ्राइडे कैसे मनाते हैं?

गुड फ्राइडे (GOOD FRIDAY STORY) के दिन गिरजाघरों में विशेष प्रार्थना आयोजित होती है। ईसाई समुदाय के लोग सुबह की प्रार्थना में शामिल होते हैं। इस दिन ईसा मसीह के अंतिम क्षणों एवं बलिदान को याद किया जाता है। ईसा मसीह के उपदेशों को पढ़ा जाता है। उनके बताए संदेशों और उपदेशों को स्वयं के जीवन में उतारने का प्रयास किया जाता है।

यह भी पढ़े: Aastha Tips: क्या है तुलसी का पौधा लगाने के फ़ायदे

गुड फ्राइडे क्यों मनाते हैं?

ईसाई धर्म ग्रंथों के अनुसार, बताया जाता है कि,

ईसा मसीह येरुशलम में लोगों को ईश्वर का संदेश बताते थे, मानव कल्याण के उपदेश देते थे। लोगों पर उनके उपदेशों का गहरा असर होता था, जिससे प्रभावित होकर लोग ईसा मसीह को ईश्वर मानने लगे थे। इस तरह की घटना से धर्म के कुछ ठेकेदार चिढ़ने लगे थे।