संकष्टी चतुर्दशी के पर्व पर विघ्नहर्ता को प्रसन्न करने के लिए करें यह आसान उपाय, सदैव बनी रहेगी उनकी आप पर कृपा

22 दिसंबर 2021 बुधवार को पंचांग के अनुसार चतुर्थी तिथि है, इसे संकष्टी चतुर्थी भी कहते हैं। आज के दिन गणेश भगवान की पूजा अति उत्तम मानी जाती है।

 
image: news18
भगवान गणेश को ऐसे करें प्रसन्न।

Digital Desk: गणेश जी को प्रसन्न करने के लिए आज का दिन विशेष माना जाता है। आज बुधवार है और चतुर्थी का दिन भी बुधवार के दिन चतुर्थी की तिथि गणेश जी को ही समर्पित होती है। मान्यता के अनुसार ऐसा संयोग विशेष होता है और गणेश जी की पूजा के लिए इसे अति उत्तम दिन माना जाता है। इसके साथ ही इस दिन पुष्य नक्षत्र भी रहेगा, आज के दिन गणेश जी की आरती और चालीसा का पाठ करना विशेष फल प्रदान करेगा।

गणेश आरती और चालीसा:

आज के दिन अगर आप स्नान उपरांत गणेश भगवान की पूजा करें एवं गणेश भगवान की आरती और चालीसा का पाठ करें, तो ऐसे में आपको विशेष रूप से फायदा होगा।

आज के दिन अगर आप सच्चे मन से श्रद्धा एवं पूजा करते हैं, तो आपको बुध दोष से भी छुटकारा मिलता है और अगर आपको कोई बुध दोष नहीं है, तो इससे आपका बुध जरूर मजबूत होगा। आज के दिन आप बुध ग्रह के मंत्र का जाप भी कर सकते हैं और बुध दोषों से मुक्ति पाने के लिए ज्योतिष द्वारा बताए गए उपाय भी कर सकते हैं। वैसे पूजा करने की से पहले शुभ और अशुभ मुहूर्त का पता होना काफी आवश्यक हो जाता है।

अशुभ समय:

आज सुबह 11:58 से लेकर 12:40 तक अशुभ समय है। पंचांग भाषा में ऐसे दुष्ट मुहूर्त भी कहा जाता है। वैसे हिंदू कैलेंडर के अनुसार पोस्ट कृष्ण चतुर्थी 22 दिसंबर के दिन बुधवार को शाम 4:52 से लगेगी और स्थिति का समापन 23 दिसंबर गुरुवार को शाम 6:27 पर होगा।

पूजन:

स्नान के बाद सूर्य को जल अर्पित करें, उसके बाद रात संकष्टी चतुर्थी का व्रत। गणेश पूजा का संकल्प करें, पूजा स्थान पर गणेश जी की मूर्ति स्थापित करें और गंगाजल से उनका अभिषेक करें एवं चंदन लगाएं। गणेश जी को पुष्प माला एवं वस्त्र एवं मोदक का भोग लगाएं और गणेश चालीसा का पाठ करें। अंत में संकष्टी चतुर्थी व्रत के कथा का पाठ करें और गणेश जी की आरती करने के बाद पूजा को समाप्त कर दे। सच्चे मन से पूजा करने के बाद आप पर भगवान गणेश की कृपा बरसेगी और बुध दोष से भी छुटकारा मिलेगा।