33.2 C
Mirzāpur
शुक्रवार, जुलाई 10, 2020

बरस पड़े कृष्ण भक्त, कथावाचक मुरारी बापू पर मुकदमा होने की मांग

मिर्ज़ापुर : इन दिनों कथावाचक मुरारी बापू (morari bapu ) समस्याओं में घिरे नजर आ रहे हैं दरअसल मामला इस प्रकार है...
More
    <

    Latest Posts

    AAJ KA RASHIFAL 10 JULY 2020 : वर्षा की अधिकता से बाढ़ की संभावना, कहीं-कहीं भूकम्प के झटके भी जानिए क्या है अन्य राशियों...

    मौसम विशेष : वर्षा की अधिकता से बाढ़ आदि की संभावना बनी रहेगी । कहीं-कहीं भूकंप के झटके महसूस किए जा सकते हैं...

    AAJ KA RASHIFAL 9 JULY 2020 : मीन राशि के जातक अनावश्यक वाद विवाद से बचें है, खोई हुई वस्तु मिलने के संकेत जाने...

    मौसम विशेष : मौसम साफ रहने की संभावना है वर्षा के कारण उमस बनी रहेगी । तापमान से जन-धन को कष्ट होगा। रात...

    Vikas Dubey की तलाश में जुटी मिर्ज़ापुर पुलिस, जनपद सीमाओँ पर मुस्तैदी

    कानपुर में हुए पुलिस हत्याकांड में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी और पांच लाख के इनामिया अपराधी विकास दुबे Vikas Dubey...

    Sanjay Mishra : “ढोन्दू जस्ट चील” वाले अभिनेता संजय मिश्रा पहुँचे मिर्ज़ापुर

    मिर्ज़ापुर जनपद के सीखड़ ब्लॉक के खानपुर गांव में लगा फ़िल्म का सेट, सूत्रों के अनुसार फ़िल्म का नाम ‘वो 3 दिन’...

    Gi Tag : रामनगर चोखा के लिए विख्यात बैंगन साथ मिर्ज़ापुर के आदम चीनी चावल को भी भेजा गया

    मिर्ज़ापुर के चार प्रोडक्ट्स सहित उत्तर प्रदेश के 26 उत्पाद जीआई रजिस्ट्रेशन ( GI Tag ) के लिए चिह्नित किए गए हैं। वर्ल्ड फेमस बनारसी पान व लंगड़ा आम को भी GI Tag मिल सकता है। साथ ही साथ रामनगर के चोखा के लिए विख्यात बैंगन और आदम चीनी चावल को भी Gi Tag की सूची में शामिल किया जाएगा। आइये जानते हैं Gi Tag के बारे में विस्तार से

    आख़िर ये जीआई टैग क्या होता है?

    दअरसल GI टैग्स इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स (IPR) का हिस्सा हैं जो पेटेंट्स से मिलते-जुलता है। GI टैग किसी भौगोलिक परिस्थिति के आधार पर दिए जाते हैं और पेटेंट नई खोज तथा आविष्कारों को बचाए रखने का माध्यम हैं। गौरतलब है कि भारतीय संसद ने 1999 में रजिस्ट्रेशन एंड प्रोटेक्शन एक्ट के तहत ‘जियोग्राफिकल इंडिकेशंस ऑफ गुड्स’ लागू किया था, इस हिसाब से भारत के किसी भी क्षेत्र में पाए जाने वाली स्पेशल चीज़ का कानूनी अधिकार उस राज्य को दे दिया जाता है।

    बनारसी साड़ी, बंगाली रसगुल्ला,मैसूर सिल्क, कोल्हापुरी चप्पल, दार्जिलिंग चाय इसी कानून के अन्तर्गत संरक्षित है। इस चित्र में रसगुल्ले का GI टैग सर्टिफिकेट देख सकते हैं।

    Gi Tag सर्टिफिकेट

    जैसा कि नाम से ही साफ है, जियोग्राफिकल इंडिकेशंस टैग्स का काम उस खास भौगोलिक परिस्थिति में पाई जाने वाली चीज़ों के दूसरे जगहों पर गैर-कानूनी इस्तेमाल को रोकना है।

    किसको मिलता है ये ख़ास टैग :

    किसी भी चीज़ को GI टैग देने से पहले उसकी क़्वालिटी और प्रोडक्शन की अच्छे से जांच की जाती है। ये तय किया जाता है कि उस खास चीज़ की सबसे ज़्यादा और ओरिगिनल पैदावार निर्धारित राज्य की ही है। इसके साथ ही यह भी तय किए जाना बहुत जरूरी होता है कि भौगोलिक स्थिति का उस चीज़ की पैदावार में कितना योगदान है। कई बार किसी खास चीज़ की पैदावार एक विशेष स्थान पर ही संभव होती है। इसके लिए वहां की जलवायु से लेकर उसे आखिरी स्वरूप देने वाले कारीगरों तक का हाथ होता है। उदाहरण के तौर पर हल्दीराम भुजिया सिर्फ़ नागपुर में ही बनाई जा सकती है, क्योंकि नागपुर के पानी और हवा का बहुत बड़ा योगदान है इसके निर्माण को पूरा करने में।

    GI टैग्स मिलने से क्या फ़ायदा होता है :

    GI टैग मिलने के बाद इंटरनेशनल मार्केट में उस चीज़ की कीमत और उसका वैल्यू बढ़ जाती है। इस कारण से इसका एक्सपोर्ट बढ़ जाता है और साथ ही देश-विदेश से लोग एक खास जगह पर उस स्पेशल सामान को खरीदने आते हैं। इस कारण इस क्षेत्र का टूरिज्म भी बढ़ता है। किसी भी राज्य में ये स्पेशल चीज़े उगाने या बनाने वाले किसान और कारीगर गरीबी की रेखा के नीचे आते हैं। GI टैग मिल जाने से बढ़ी हुई एक्सपोर्ट और टूरिज्म की संभावनाएं इन किसानों और कारीगरों को आर्थिक रूप से मजबूती प्रदान करती हैं।

    मिर्ज़ापुर में क्या होने जा रहा है ?

    इस संबंध में पद्मश्री व Gi Tag विशेषज्ञ डॉ. रजनीकांत ने तैयारी शुरू कर दी है। मिर्ज़ापुर के आदम चीनी चावल को विशेष रूप से फोकस किया गया है। यह चावल जिले के भुइली, चकिया व शेरवां के गांव की ओर बहुतायत में पैदा होता है। यह अपने स्वाद व खुशबू के लिए मशहूर है।

    Gi Tag
    Gi Tag Mirzapur

    एक रोचक तथ्य ये भी है कि रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के गांव में इस चावल की बहुतायत से पैदावार होती है। इन उत्पादों को Gi टैग मिलने के बाद मिर्ज़ापुर को भी वर्ल्ड पॉपुलैरिटी मिलेगी। इसी प्रकार से बनारसी पान परंपरागत रूप से लोगों को पसंद आता है। सब्जियों में बैंगन व फलों में लंगड़ा आम भी प्रसिद्ध है। बनारसी लंगड़ा आम के मुकाबले का कोई आम नहीं है। इसीलिए इसे भी जीआई टैग मिलने वाला है। 

    पद्मश्री व Gi Tag विशेषज्ञ डॉ. रजनीकांत ने बताया कि उत्तर प्रदेश के एक जनपद एक उत्पाद में चयनित बाराबंकी का हैंडलूम, मुज्जफरनगर का गुड़, आगरा का लेदर फुटवियर, बागपत का हैंडलूम उत्पाद, जालौन का हैंडमेड पेपर के जीआई पंजीकरण प्रक्रिया को वहां की स्थानीय उत्पादक संस्थाओं द्वारा नाबार्ड एवं प्रदेश सरकार (ओडीओपी सेल-एमयसएमई विभाग) के सहयोग से संस्था ह्यूमन वेलफेयर एसोसिएशन द्वारा शुरू किया जा चुका है।

    Latest Posts

    AAJ KA RASHIFAL 10 JULY 2020 : वर्षा की अधिकता से बाढ़ की संभावना, कहीं-कहीं भूकम्प के झटके भी जानिए क्या है अन्य राशियों...

    मौसम विशेष : वर्षा की अधिकता से बाढ़ आदि की संभावना बनी रहेगी । कहीं-कहीं भूकंप के झटके महसूस किए जा सकते हैं...

    AAJ KA RASHIFAL 9 JULY 2020 : मीन राशि के जातक अनावश्यक वाद विवाद से बचें है, खोई हुई वस्तु मिलने के संकेत जाने...

    मौसम विशेष : मौसम साफ रहने की संभावना है वर्षा के कारण उमस बनी रहेगी । तापमान से जन-धन को कष्ट होगा। रात...

    Vikas Dubey की तलाश में जुटी मिर्ज़ापुर पुलिस, जनपद सीमाओँ पर मुस्तैदी

    कानपुर में हुए पुलिस हत्याकांड में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी और पांच लाख के इनामिया अपराधी विकास दुबे Vikas Dubey...

    Sanjay Mishra : “ढोन्दू जस्ट चील” वाले अभिनेता संजय मिश्रा पहुँचे मिर्ज़ापुर

    मिर्ज़ापुर जनपद के सीखड़ ब्लॉक के खानपुर गांव में लगा फ़िल्म का सेट, सूत्रों के अनुसार फ़िल्म का नाम ‘वो 3 दिन’...

    Don't Miss

    27 JUNE 2020 का राशिफल : वृष राशि के जातक लेन देन में सावधानी बरतें, जाने अन्य राशियों का हाल

    निम्नलिखित 27 June 2020 का राशिफल विशेष रूप से मिर्ज़ापुर जनपद एवं इसके आसपास के क्षेत्रों (सोनभद्र, भदोही) में निवास करने वालों के उप्पर...

    मिर्ज़ापुर पहुँचा टिड्डियों का दल, किसानों में दहशत जानिए पूरी रिपोर्ट

    अन्य राज्यों में आतंक फैलाने के बाद अब ये टिड्डियों का दल वृहस्पतिवार को जिले के विभिन्न गांवों में पहुँच चुका है...

    101 दिनों बाद खुल रहा है माँ विंध्यवासिनी मंदिर, जानिए किन-किन शर्तों का करना होगा पालन

    कोरोना काल का प्रभाव हमारी दैनिक दिनचर्या पर पड़ रहा है। इस वैश्विक महामारी से बचने के लिए हमारे कार्यालय, विद्यालय, न्यायालय...

    थाली-घंटा बजाकर विंध्याचल मंदिर बंद रहने का विरोध

    मिर्ज़ापुर जनपद में कोरोना के बढ़ते प्रभाव के चलते प्रशासन द्वारा कई ठोस कदम उठाये जा रहे हैं। जिसमें ज़्यादा से ज़्यादा...

    मिर्ज़ापुर समेत इन जिलों में भयंकर आंधी और बारिश के आसार, अलर्ट जारी

    भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने वृहस्पतिवार 25 जून 2020 को अलर्ट जारी करते हुए बताया कि अगले कुछ घंटों में उत्तर प्रदेश...
    Open chat