डायबिटीज पर पाना है काबू तो ऐसे करें त्रिफला का सेवन

औषधीय गुणों से भरपूर त्रिफला डायबिटीज मरीजों के लिए है वरदान
 
त्रिफला
 पेट और आंतों की सफाई के साथ- साथ ब्लड सर्कुलेशन के लिए भी बेस्ट

सेहत, डिजिटल डेस्क: आजकल के समय में डायबिटीज आम समस्या हो गई है। देश में डायबिटीज के 75 प्रतिशत से अधिक मरीजों में शुगर का स्तर अनियंत्रित रहता है। रिकार्ड बताते है कि भारत में डायबटीज के छह करोड़ से ज्यादा मामले हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन डब्ल्यूएचओ ने कहा था कि डायबिटीज ही 2030 तक लोगों की मौत का सातवां सबसे बड़ा कारण होगा। बात करें भारत की तो बता दें कि जनसंख्या अनुपात के अनुसार सबसे अधिक डायबिटीज के मरीज गोवा और आंध्र प्रदेश में हैं। 

ऐसे में डायबिटीज को नियंत्रित करना बहुत मायने रखता है। ज्यादात्तर लोग तो इसे बीमारी ही नही समझते नतीजा बाद में यह खतरनाक साबित होता है। डायबिटीज से ज्यादा पीडि़त लोग इसे कंट्रोल करने के लिए दवाइओं का प्रयोग करते है लेकिन दवाइयों का प्रयोग कभी कभी खतरनाक भी साबित होता है। इसलिए हम आपको कुछ घरेलू ऐसे घरेलु उपायों के बारें में बताने जा रहे है जिससे डायबिटीज कंट्रोल करने के साथ- साथ इस समस्या से जड़ से निजात पा सकते है।

जी हां हम बात कर रहे त्रिफला की जो औषधीय गुणों से भरपूर होता है। डायबिटीज के लिए त्रिफला का तीन तरीकों से इस्तेमाल करके आप इस बीमारी से छुटकारा पा सकते है- 

1- रोजाना सुबह त्रिफला काढ़ा बनाए और पीएं। एक लोहे के बर्तन में 1 कप त्रिफला रातभर के लिए भिगो दें और सुबह त्रिफला को निकालकर पानी में शहद मिलाएं। यह काढ़ा खाली पेट पीना फायदेमंद होता है।

2-  त्रिफला को दिन में छाछ में मिलाकर भी पीने से शुगर को कंट्रोल किया जा सकता है। इससे पेट संबंधी बीमारियों से राहत मिलती है।

3-  रात में सोने से पहले 1 चम्मच देसी घी में थोड़ा-सा त्रिफला चूर्ण बनाकर गुनगुने पानी के साथ लें। यह डायबिटीज नियंत्रण के साथ साथ आंत के लिए भी फायदेमंद है।