सेहत सलाह: क्या दवाई को बीच में से तोड़कर खाना है सही तरीका?, जानिए डॉक्टर की यह विशेष सलाह

डॉक्टरों के मुताबिक जिन दवाओं पर एक पतली सी लाइन बनी होती है, उन्हीं दवाओं को आप तोड़कर कर खा सकते हैं। मतलब  500mg की टेबलेट को तोड़कर खाएंगे, तो वह 250mg का काम करेगी।

 
image source : PCD Pharma

यहाँ पढ़े डॉक्टरों की सलाह।

Digital Desk: जब आपकों डॉक्टर 250mg की दवा लिखकर देता है और अगर मार्केट में 250mg की दवा नहीं मिल रही है, तो आप 500mg की दवा ख़रीद लेतें है, और आधा तोड़कर खा लेते हैं। लेकिन क्या यह सही तरीका है? दरअसल डॉक्टरों का कहना है कि, जिन दवाओं को तोड़कर खाया जा सकता है, उनपर एक अलग निशान होता है।

कौन सी दवा को तोड़कर खाए, कौन सी न खाए:

दरअसल डॉक्टरों की सलाह के मुताबिक जिन दवाइयों पर बीच में एक निशान बना हुआ रहते है, तो उस दवा को आप तोड़ कर खा सकते हैं।

उदाहरण: अगर किसी डॉक्टर ने आपको 250mg की दवा लिख कर दी है और मार्केट में वह दवा नहीं मिल रही है, अगर 500mg की दवा मिल रही है और टेबलेट के बीच में निशान बना हुआ है, तो आप इसे तोड़ कर खा सकते हैं। बीच में अगर निशान बना हुआ है, तो इसका मतलब है कि इस दवा को हम दो टुकड़ों में करके खा सकते हैं। लेकिन जिन दवाओं पर बीच में कोई निशान नहीं बना होता है, तो इन दवाओं को बिना डॉक्टर की सलाह के बिल्कुल न खाए। इससे आपकी सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

एक्सपर्ट की सलाह:

एक्सपोर्टर डॉक्टर बताते हैं कि जिन दवाओं पर कोई निशान नहीं बना होता, उन दवाओं को आप तोड़कर नहीं खा सकते। उनके मुताबिक जो दवा नहीं तोड़ी जा सकती, उनमें लाइन भी नहीं बनी होती। इन दवाओं पर एक लेयर चढ़ी होती है, जो टूटने के बाद अपना काम नहीं कर पाती। मतलब वह दवा आपको बीमारी में फायदा नहीं पहुंचा पाएगी। ऐसे में जिन कैप्सूल में दो हिस्से बने रहते हैं, उन दवाओं को आप तोड़कर खा सकते हैं, वह आपको फायदा करेंगी।

मीडिया रिपोर्ट्स की सलाह:

मीडिया रिपोर्ट का भी यही मानना है कि, सभी टेबलेट को तोड़कर नहीं खाया जा सकता। जिन टेबलेट को तोड़ा जा सकता है, उनके बीच में एक लाइन बनी होती है, इन टेबलेट्स को स्कोर टेबलेट कहते हैं। केवल ऐसी दवाओं को तोड़कर खाना आपको बीमारी में फायदा करेगा।