विशेषज्ञों ने किया दावा, कोरोना के साथ जीना सीखना होगा, हमें डेल्टा और ओमिक्रोन के साथ ही जीना होगा

डॉक्टर जैकब जॉन ने इस खतरनाक वायरस(corona variant) के संचरण पर काम करने के बाद यह बात का है कि, बच्चों का जल्द से जल्द टीकाकरण कराया जाना चाहिए।

 
image: medical dailogue
पूरे विश्व में बढ़ रहे हैं कोरोना के नए मामले।

नई दिल्ली, Digital Desk: देश में कोरोनावायरस(corona virus)के मामलें तेजी से मामले बढ़ते हुए नजर आ रहे हैं और यह सिर्फ भारत में नहीं है, बल्कि विश्व भर में इसके संक्रमण काबू में नहीं आ रहे हैं। ऐसे में दुनिया भर के विशेषज्ञ इस पर अपनी विचारधारा रख रहे हैं।

इसी बीच आईसीएमआर के पूर्व निर्देशक, वेल्लोर में क्लीनिक के प्रमुख डॉक्टर जैकब जॉन ने दावा किया है कि, कोरोना वायरस हमारे साथ ही रहने वाला है और यह भी संभावना है कि ओमिक्रोन और डेल्टा(delta) भी इस सूची मेंं हो सकता है।

डॉक्टर की सलाह:

डॉक्टर साहब ने वायरस के संचरण को कम करने हेतु उत्परिवर्तन द्वारा उभरते हुए जोखिम को कम करने के लिए बच्चों के जल्द से जल्द टीका कराए जाने की बात पर जोर दिया। उन्होंने बताया कि, बच्चों के टीकाकरण से वायरस का भंडार फैलने से रुकेगा। हम यह जानते हैं कि नया वाला वायरस यानि Omicron बच्चों पर ज्यादा प्रभावित होता है और आसानी से प्रभावित हो जाता है। ऐसे में अधिक तेज अभियान चलाकर टीकाकरण(vaccination)का कार्य पूरा कराना होगा।

बोस्टर डोज़:

डॉक्टर जॉन ने विशेषज्ञों के साथ मिलकर गुरुवार को एक ऑनलाइन चर्चा की जिसमें उन्होंने बताया कि, टीकाकरण के साथ-साथ बूस्टर डोज़(booster doze) भी लगवाना अति आवश्यक है। क्योंकि इससे संक्रमण का खतरा कम हो जाता है। ऐसे में सभी का समय समय पर कोरोनावायरस की जांच करवाना भी अति महत्वपूर्ण हो जाता है। साथ ही यह भी महत्वपूर्ण है कि, लोग जांच कराने के बाद इस बात को गंभीरता से लें और संक्रमण को रोकने के लिए खुद को एक कमरे में बंद कर ले और इलाज़ करें।

टिका है महत्वपूर्ण:

डॉक्टर ने बताया कि वर्तमान डेटा से पता चला है कि ओमिक्रोन वायरस दोहरा टीकाकरण वाले लोगों में अधिक देखा जाता है। यह हमारे हित में है कि, हम अपनी सुरक्षा को कम ना होने दें। वही अपोलो अस्पताल के सलाहकार और संक्रामक रोग विशेषज्ञ ने भी बताया है कि, टीका हमारे लिए सबसे अच्छी व्यवस्था है। क्योंकि वह बीमारी की गंभीरता को कम कर देता है। अभी तक सर्दी खांसी के साथ 1 दिन का बुखार ,जैसे हल्के लक्षणों के जरिए इलाज किया जा रहा है। हालांकि हमें भविष्य में डेल्टा की गंभीरता के साथ ओमिक्रोन जैसा कुछ मिलता है, तो यह गंभीरता का विषय है।