माँ के लिए Anupriya Patel ने किया बड़ा त्याग, Krishna Patel के सामने नहीं उतारेंगी कोई भी प्रत्याशी, लेकिन बहन के साथ हो सकता है मुकाबला

माँ के सम्मान में अनुप्रिया पटेल नहीं उतारेंगी उनके सामने अपना कोई भी प्रत्याशी।

 
image: aaj tak
बहन पल्लवी पटेल से देखने को मिल सकता है मुकाबला।

मिर्ज़ापुर, Digital Desk: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल (Anupriya Patel BJP) ने अपनी मां के लिए एक बड़ा त्याग करते हुए प्रतापगढ़ सीट से अपना प्रत्याशी वापस ले लिया। Anupriya Patel की पार्टी अपना दल (एस) का गठबंधन भारतीय जनता पार्टी के साथ है, जिसमें उन्होंने प्रतापगढ़ सीट पर अपना प्रत्याशी उतारा था। लेकिन खास बात यह है कि, प्रतापगढ़ की सीट से अनुप्रिया पटेल की मां कृष्णा पटेल सपा के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ रही है। हालांकि समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन पर भी वह समाजवादी पार्टी के सिंबल पर चुनाव लड़ेंगी। ऐसे में उनका जीतना लगभग तय माना जा रहा है। जबकि उनकी बहन के लिए मुश्किल बढ़ चुकी है, समाजवादी पार्टी ने सिराथू उन्हें उम्मीदवार घोषित कर दिया है। जहां उनका मुकाबला डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य से होगा। पल्लवी पटेल को चुनाव में एक बड़ी टक्कर देखने को मिल सकती है।

प्रतापगढ़:

प्रतापगढ़ सीट (Pratapgarh News) से किसी को पार्टी द्वारा नाम घोषित नहीं किया जा रहा था। ऐसे में समाजवादी पार्टी ने मंगलवार को अपना दल (कमेरावादी) की राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की मां कृष्णा पटेल (Krishna Patel) को यहां से प्रत्याशी घोषित कर दिया। जिसके बाद अनुप्रिया पटेल ने इस सीट को भारतीय जनता पार्टी को वापस लौटा दिया। इस बात के लिए अनुप्रिया पटेल के पति आशीष पटेल मंगलवार को खुद प्रतापगढ़ गए और कार्यकर्ताओं को बताया कि, मां के सम्मान में प्रतापगढ़ सीट सदर का दावा छोड़ा गया है। खबरों के मुताबिक अनुप्रिया पटेल ने अपनी मां के सम्मान में इस सीट से अपना उम्मीदवार नहीं उतारा और भारतीय जनता पार्टी को सीट वापस करदी है।

यह भी पढ़े: Mirzapur News: गुड़गांव से आई प्रोफेसर महिला ने दिया ससुराल के सामने धरना, पति और सास पर लगाया ज़बरदस्ती तलाख देने का आरोप, जानिए पूरी घटना

राजनीति के कारण रिश्तों में दरार:

खबरों के मुताबिक बताया गया था कि, अनुप्रिया पटेल के पिता के निधन के बाद परिवार में खटास आनी शुरू हो गई थी। पिता की संपत्ति को लेकर परिवार के सदस्यों के बीच रिश्तो में दरार आ गई। जिसके बाद अनुप्रिया पटेल ने पिता की पार्टी से अलग होकर, पिता के नाम पर ही एक राजनीतिक पार्टी का गठन किया और जिसका भारतीय जनता पार्टी से फिलहाल उत्तर प्रदेश में गठबंधन है। ऐसे में कृष्णा पटेल द्वारा हमेशा बड़ी-बड़ी बातें कही गयी, लेकिन अनुप्रिया पटेल ने हमेशा संवेदनशीलता से यही कहा है कि, अपनी मां के लिए उनके दिल में हमेशा सम्मान एवं इज्जत है।