Mirzapur: ठेले, खुमचे वालों को न करे परेशान, बड़ी दुकानों पर की चलाया जाय चेकिंग अभियान - जिलाधिकारी

खाद्य सुरक्षा औषधि प्रशासन के जिला स्तरीय कमेटी की बैठक में जिलाधिकारी ने लगायी फटकार 
 
mirzapur
खाद्य सुरक्षा विभाग के कार्यप्रणाली व प्रगति से जिलाधिकारी असंतुष्ट, सुधार लाने का निर्देश

मिर्ज़ापुर, Digital Desk: जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग के जिला स्तरीय कमेटी की बैठक आहूत की गयी। बैठक में खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन के कार्यप्रणाली एवं प्रगति की समीक्षा से जिलाधिकारी द्वारा असंतोष व्यक्त करते हुये कार्यो में सुधार लाकर प्रगति लाने का निर्देश दिया तथा तहसीलो एवं नगरीय क्षेत्रो में तैनात खाद्य सुरक्षा अधिकारियो को बड़े दुकानदारो, होटलो, रेस्टोरेंट में प्रयोगार्थ खाद्य पदार्थो के चेकिंग अभियान चलाकर प्रत्येक माह 50-50 सैम्पल लेने का लक्ष्य निर्धारित किया।

जिलाधिकारी द्वारा तहसीलवार खाद्य सुरक्षा अधिकारियो से उनके कार्यो के बारे में जानकारी लेते हुये जब यह पूछा गया कि इस बैठक में उपस्थित अधिकारियो में आप तैनाती तहसील का एसडीम कौन है तो खाद्य सुरक्षा अधिकारी मड़िहान लालगंज एवं चुनार के द्वारा न ही एसडीम को पहचान पाये और न ही उनका नाम बता पाये। तहसीलो में तैनाती अवधि के बारे में इन तीनो खाद्य सुरक्षा अधिकारी द्वारा बताया गया कि विगत 09 माह से तहसील क्षेत्रान्तर्गत कार्यरत है वे अभी तक तहसील में नही गये है। जब यह तीनो खाद्य सुरक्षा अधिकारी एसडीम का नाम व चेहरा न पहचान पाये तो स्वयं जिलाधिकारी हतप्रभ रह गये।

उन्होने एक-एक एसडीम से उनका परिचय कराया तथा निर्देशित किया ईद पर्व के बाद तत्काल सभी खाद्य सुरक्षा अधिकारी अपने एसडीम से तहसीलो में जाकर सम्पर्क करेंगे तथा उप जिलाधिकारी उन्हे एक कक्ष तहसील में उपलब्ध करायेंगे। खाद्य सुरक्षा अधिकारी उपजिलाधिकारी को अवगत कराने के बाद ही क्षेत्र में जाकर क्रियाशील रहेंगे। जिलाधिकारी ने कड़े निर्देश देते हुये कहा कि आगे से तहसीलो में इनकी उपस्थिति का निरीक्षण कराया जायेगा। यदि तहसील में नही पाये गये तो इनके विरूद्ध कड़ी से कड़ी कड़ी कार्यवाही की जायेगी। खाद्य सुरक्षा अधिकारी सदर के द्वारा अपने एसडीम को पहचाना गया तथा नाम भी बताया गया।

जिलाधिकारी ने निर्देशित करते हुये कहा कि दूध, घी, खोवा के बड़े व्यापारियो का औचक निरीक्षण किया जाय तथा सैम्पल लेकर अग्रिम कार्यवाही की जाय। उन्होने कहा कि ठेला, खुमचा या फुटपाथ छोटे दुकानदारो को जाॅच के नाम पर अनावश्यक परेशान न किया जाय। उन्होने कहा कि प्राथमिक विद्यालयो में एम.डी.एम. में प्रयुक्त होने वाली सामाग्रियो की भी सैम्पल लेकर जाॅच करायी जाय। उन्होने कहा कि सैम्पल के जाॅचोपरान्त दर्ज मुकदमो का भी निस्तारण समय से कराया जाय। जिलाधिकारी ने कहा कि आम जनमानस को सुरक्षित एवं स्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थो की उपलब्धतता सुनिश्चित कराने के लिये कार्ययोजना तैयार कर कार्यवाही सुनिश्चित कराया जाय। उन्होने कहा कि खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण के ईट राइट इनीसियेटिव के अन्तर्गत होटलो, रेस्टोरेंटो, मिठाई, बेकरी की दुकानो हाईजिन रेटिंग प्रमाणित कराया जाय तथा नियमित रूप से विशेष अभियान चलाकर खाद्य पदार्थो की गुणवत्ता पर विशेष निगरानी रखी जाय।

यह भी पढ़े: जनपद में शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हुई ईद की नमाज, एक दूसरे को गले लगाकर दी गई बधाई

जिलाधिकारी ने कहा कि निर्धारित मानक टर्न ओवर वाले कारोबार कर्ताओ के लाइसेंस समयानुसार जारी एवं नवीनीकरण सुनिश्चित कराया जाय। जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि जनपद में 12 लाख प्रतिवर्ष के टर्न ओवर वाले कार्यकर्ताओ को सिर्फ रजिस्ट्रेशन/पंजीकरण किया जाना है तथा उससे ऊपर टर्न ओवर वाले कारोबार कर्ताओ को लाइंसेस जारी किया जाता हैं। उन्होने बताया कि 30 जून 2022 तक 599 एक्टिव लाइसेंसो के लक्ष्य के सापेक्ष दिनांक 31 मार्च 2022 तक जनपद में एक्टिव लाइसेंसो की संख्या 399 है। इसी प्रकार दिनांक 31 जून 2022 एक्टिव 8003 पंजीकरण लक्ष्य के सापेक्ष 31 मार्च 2022 तक 5335 एक्टिव पंजीकरण कारोबार कर्ताओ की संख्या है।

इसी प्रकार जनपद में अब तक 16 खाद्य प्रतिष्ठानो का हाइजिन रेटिंग प्रमाणीकरण कराया जा चुका हैं तथा एक ईट राइट कैम्पस को भी प्रमाणीकरण कराया गया हैं। उन्होने बताया कि दूध पर अब तक की गयी कार्यवाही कुल 50 संग्रहीत लिये गये नमूनो के सापेक्ष 50 पर जाॅच रिपोर्ट प्राप्त हुयी है जिसमें 35 अधोमानक तथा 15 विशुद्ध पाये गये है जिसमें एओ कोर्ट में 30 पर अभियोजन सम्बन्धी कार्यवाही चल रही है। 15 वाद निस्तारित कर 590000 अर्थ दण्ड की कार्यवाही की गयी हैं। यह भी बताया कि खाद्य पदार्थो की गुणवत्ता सुनिश्चित करने हेतु 242 नमूनो को संग्रहीत कर जाॅच के लिये भेजा गया था जिसमें से 215 जाॅच रिपोर्ट प्राप्त हुये है जिसमें 05 असुरक्षित, 132 अधोमनाक/मिथ्या/छाप/नियम का उल्लघन में पाया गया हैं।

77 विशुद्ध जाॅच रिपोर्ट में पाया गया हैं। उन्होने बताया कि 127 मामले अभियोजन से सम्बन्धित ए0ओ0 कोर्ट तथा 11 न्यायिक न्यायालय एवं ए.ओ कोर्ट न्यायिक 59 निस्तारित करते हुये 2950000 अर्थदण्ड/सजा की कार्यवाही की गयी। बैठक में अपर जिलाधिकारी शिव प्रताप शुक्ल, मुख्य चिकित्साधिकारी राजीव सिंघल, उपजिलाधिकारी सदर चन्द्रभान सिंह, मड़िहान सिद्धार्थ यादव, चुनार नीरज पटेल, क्षेत्राधिकारी सदर शैलेन्द्र त्रिपाठी, जिला आबकारी अधिकारी नीरज द्विवेदी, जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी, जिला पूर्ति अधिकारी उमेश चन्द्र के अलावा अन्य सभी सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहें।

रिपोर्ट- रवि यादव, जिला संवाददाता
मिर्ज़ापुर ऑफिशियल