आखिर क्यों खोदकर निकाला गया महिला का कब्र में से शव, बाद में बीएचयू जांच के लिए भेजा गया जानिए पूरी कहानी

कोर्ट ने यह आदेश दिया और देहात कोतवाली के जसोवर कब्रिस्तान से महिला के शव को बाहर निकाला गया। वैसे महिला का शव कंकाल बन चुका था, लेकिन उसे जांच के लिए बीएचयू लैब भेजा गया है।

 
image: guardain

महिला के मौत का राज जानने के लिए उसके कंकाल की होगी जाँच।

मिर्ज़ापुर, Digital Desk: कोर्ट के आदेश पर रविवार को देहात कोतवाली के जसोवर कब्रिस्तान से एक महिला के शव के कंकाल को बाहर निकाला गया। दरअसल, कंकाल से यह पता लगाया जाएगा कि महिला की मौत किन परिस्थितियों में हुई और उसकी मौत का असली कारण क्या था, इसी वजह से उसके कंकाल को खोदकर बाहर निकाला गया है और बीएचयू लैब में जांच के लिए भेज दिया गया है। महिला का नाम आसमा था जिसकी शादी कुछल पहले प्रयागराज के युवक इजराइल के साथ हुई थी।

पूरी कहानी:

आसमा की उम्र 25 वर्ष थी और उसे उसके ससुराल वाले पति संग मिलकर दहेज के लिए प्रताड़ित करते थे। इसी दौरान आसमा गर्भवती हो गई और डिलीवरी के बाद 3 जून को उसकी संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु हो गई। आसमा की माताजी ने ससुराल पक्ष के पति सहित छह लोगों के विरुद्ध दहेज के लिए बेटी को जहर देकर मारने का आरोप लगाया है। घटना की तहरीर थाने में न देकर बल्कि धारा 156 के तहत न्यायालय में वाद दाखिल कर सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के आदेश देने की गुहार लगाई गई थी। कोर्ट ने भी आरोपियों के खिलाफ दहेज हत्या का मामला दर्ज़ कर महिला की मौत का कारण जानने का आदेश दिया है।

जाँच का आदेश:

आसमा की मौत कैसे हुई और किन परिस्थितियों में हुई, इस बात की जानकारी लगाने के लिए पुलिस देहात कोतवाली उस जगह पर पहुंची, जहां पर आसमा की कब्र बनाई गई थी। कब्र को खोदा गया तो महिला का शव नहीं बल्कि वहां केवल कंकाल मिला, जिसे बाहर निकालकर बीएचयू में पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। कोर्ट के आदेश पर महिला के शव का कंकाल कब्र से बाहर निकाल कर भेजा गया है। महिला की मां के अनुसार उसे जहर देकर मारा गया है, उसकी मौत का राज पता लगाने के लिए बीएचयू के लैब में कंकाल की जांच होगी और रिपोर्ट आने पर ही पता चलेगा कि उसकी मृत्यु कैसे हुई।