दो साल बाद सजा पूरी कर रिहा हुई बांग्लादेशी महिला

जिला कारागार में दो वर्ष की सजा काट आजाद हुई नसीमा परवीन
 
नसीमा
बिना वीजा के दूसरे देश में प्रवेश करने के आरोप में कोर्ट ने सुनाई थी दो साल की सजा 

मिर्ज़ापुर: बिना वीजा के भारत आई बांग्लादेशी महिला ने आज अपनी 2 वर्ष की सजा पूरी कर ली है जिसके बाद वह अपने देश वापस जा सकेगी। बता दें कि बांग्लादेशी महिला नसीमा परवीन पुत्री नजुल इस्लाम जिला कारागार में दो वर्ष से सजा काट रही थी। जिसकी सजा 12 सितंबर को पूरी हो चुकी है। जिसके बाद उसे रिहा कर दिया गया है। 

इसके लिए महिला को आवश्यक कार्यवाही के बाद जेल प्रशासन ने स्थानीय पुलिस को सौंप दिया है इसके बाद पुलिस महिला को लेकर देश की राजधानी दिल्ली जाकर बीएएसएफ को सौपेगी। उसके बाद बंग्लादेश बार्डर पर रहने वाले जवानों के माध्यम से उसे वापस उसके देश भेज दिया जाएगा।

गौरतलब है कि बार्डर पर बांग्लादेश के रसई थाना चिरीबंदोर क्षेत्र के चकमुसा हासीपुर की रहने वाली महिला नसीमा 2019 में किसी तरह भारत में आ गई थी। उसे जिले के देहात कोतवाली के जसोवर में पुलिस ने उस वक्त पकड़ा था जब गांव के लोग उसको बच्चा चोर समझकर पीट रहे थे। उसे हिरासत में लेकर थाने लाई पुलिस ने न्यायालय में पेश करने पर जेल भेज दिया था। 

न्यायालय तृतीय अपर जिला व सत्र न्यायाधीश ने बांग्लादेशी महिला नसीमा को बिना वीजा के दूसरे देश में प्रवेश करने के आरोप में उसे दो साल की सजा सुनाई इसके साथ ही दस हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया गया था। अर्थदंड की राशि अदा नहीं कर पाने पर उसे एक माह और सजा काटने का आदेश दिया था। 

नसीमा ने दो वर्ष एक माह की सजा 12 सितंबर को पूरा कर लिया। जिसके बाद अब वह अपने देश वापस लौट पाएगी।

रिपोर्ट- रवि यादव,  जिला संवाददाता
मिर्ज़ापुर ऑफिशियल