Mirzapur News: सोनभद्र, चंदौली और बिहार से मिर्ज़ापुर को जोड़ने वाले पीपा पुल का निर्माण शुरू, अब नहीं फँसेंगे वाहनों के चक्के

चुनार क्षेत्र के नारायनपुर में पीपा पुल का निर्माण कार्य शुरू हो गया है, बरसात के मौसम में हटाया जाता है पीपा पुल, कई बार चकर प्लेट की कमी से बालू में फंस जाते थे वाहन 
 
मिर्जापुर को वाराणसी से जोड़ेगा रैपुरिया पीपा पुल:सोनभद्र, चंदौली और बिहार का रास्ता होगा सुगम; विधायक ने गंगा घाट पर किया भूमि पूजन
स्थानीय नागरिकों ने पीपा पुल पर चकर प्लेट की कमी से लगने वाले जाम के चलते चाकर प्लेट बढ़ाये जाने की मांग की है 


Mirzapur, Digital Desk: मिर्ज़ापुर के चुनार तहसील क्षेत्र के नरायनपुर के रैपुरिया गंगा घाट पर पीपा पुल मार्ग का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है। स्थानीय विधायक अनुराग सिंह के प्रयास से पीपा पुल निर्माण का काम शुरू हुआ, जिससे लोगों के बीच खुशी का माहौल है, काफी लम्बे इंतज़ार के बाद पीपा पुल का निर्माण कार्य शुरू हुआ है। नागरिकों द्वारा पीपा पुल पर चकर प्लेट बढ़ाये जाने की मांग की गयी है, क्योंकि पिछले साल चकर प्लेट की कमी के कारण नागरिकों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था। 

बता दें कि पीपा पुल का निर्माण लोक निर्माण विभाग द्वारा पिछले वर्ष ही कराया गया था और बरसात के मौसम में इसे हटा दिया गया था, जिस पर नियमों के मुताबिक पिछले साल ही अक्टूबर माह में ही मरम्मत के बाद आवागमन शुरू हो जाना चाहिए था, परन्तु कतिपय कारणों की वजह से ऐसा नहीं हो पाया और लम्बे इंतज़ार के बाद इस साल फरवरी माह में पीपा पुल का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है। पीपा पुल के न होने से नागरिकों को आवागमन में बहुत दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था, पीपा पुल के पुनः बहाल होने से सोनभद्र के साथ ही चन्दौली और बिहार जाने वालों के लिए भी सुगम रास्ता साबित होगा।

पिछली बार जिस पीपा पुल का निर्माण किया गया था उसपर लगाए जाने वाले चकर प्लेट की संख्या कम थी, जिस कारण से नागरिकों को आवागमन में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था। पिछली बार केवल सिंगल लेन में ही चकर प्लेट लगाया गया था जिसकी कमी के चलते गाड़ी का चक्का बालू में फंस जा रहा था और जाम की स्तिथि उत्पन्न हो रही थी, अतः नागरिकों ने इस बार चकर प्लेट की संख्या बढ़ाये जाने की मांग की है। पीपा पुल निर्माण के ठेकेदार का कहना है कि लगभग 20 दिनों में ही इस पर आवागमन शुरू करवा दिया जाएगा। गंगा तट पर बसे तमाम लोगों को वाराणसी से मिर्ज़ापुर आने और जाने में सुविधा होगी, जिससे लोगों को लम्बी दूरी तय करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।