मिर्ज़ापुर के निवासी CRPF जवान ने की खुदकुशी, सर्विस राइफ़ल से ले ली अपनी जान

मिर्ज़ापुर के सीआरपीएफ जवान ने खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली है। जिसके बाद श्रीनगर में आर्मी कैंप में तहलका मच गया है।

 
image source : zee news

अस्पताल ले जाते-जाते जवान की हुई मृत्यु।

मिर्ज़ापुर, Digital Desk: उत्तर प्रदेश मिर्ज़ापुर गांव, मऊ के निवासी देवनाथ यादव 118 नंबर बटालियन में तैनात जम्मू-कश्मीर के गांदरबल जिले में सीआरपीएफ जवान ने सर्विस राइफल से गोली मारकर उन्होंने खुदकुशी कर ली। पुलिस के अनुसार यह वारदात सीआरपीएफ गुंड की है। बताया कि खुदकुशी करने का समय रविवार की सुबह थी। रविवार की सुबह जब कैंप में सभी जवान मौजूद थे, उसी समय देवनाथ यादव ने सर पर सर्विस राइफल दाग दी और खुद की जान ले ली। गोली की आवाज सुनते ही उनके सहकर्मी जवान वहां पहुंचे, तो देखे की पूरी जगह खून से लथपथ थी एवं देवनाथ यादव भी खून से रंगा-रंग गिरे हुए थे। ऐसे में उन्हें तत्काल प्रभाव से अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहां पहुंचते के डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

जाँच में जुटी पुलिस:

आर्मी कैंप में कोई आर्मी जवान खुदकुशी कर ले तो यह काफी हैरान कर देने वाली बात है। जिस पर अब पुलिस ने अपनी कार्यवाही शुरू कर दी है। पुलिस इस मामले की पूरी जांच करेगी एवं पता लगाएगी कि किन परिस्थितियों में देवनाथ यादव ने खुदकुशी करने का यह बड़ा कदम उठाया। पुलिस के अनुसार देवनाथ यादव उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर गांव, मऊ जिले के रहने वाले थे। दिसंबर माह के प्रथम सप्ताह में ही वह घर से ड्यूटी पर लौटे थे। देवनाथ पांच भाइयों में सबसे छोटे थे। दो भाई फौज में थे लेकिन अब रिटायर हो गए हैं। एक भाई पीएसी में कार्यरत हैं और एक भाई घर पर रहकर खेती-बाड़ी करते हैं। देवनाथ यादव की एक 12 वर्ष की बेटी है एवं पत्नी जिन का रो-रो कर बुरा हाल है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है एवं जांच की कार्यवाही में जुट गई हैं।

इसके पहले भी हुई आत्महत्या:

खबरों के मुताबिक इसके पहले भी तो उन जवानों ने खुदकुशी करने का प्रयास किया था। 12 दिसंबर और 13 दिसंबर को दो सीआरपीएफ जवान खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। यह मामला भी श्रीनगर का था, इसीलिए पुलिस का इस मामले में जांच करना बहुत जरूरी है कि, क्यों यह जवान आत्महत्या करने का कठिन कदम उठा रहे हैं।