स्वस्थ बच्चे ही कल के स्वस्थ भारत की तकदीर लिखेंगे- विधायक रत्नाकर मिश्र

1 सितंबर से 30 सितंबर तक शासन के निर्देश पर जनपद में चतुर्थ राष्ट्रीय पोषण माह का आयोजन
 
पोषण
आंगनबाड़ी बहनों को दिया गया सहजन का पौधा, 15 महिलाओं की हुई गोदभराई व उनकें शिशुओ का हुआ अन्नप्राशन संस्कार 

मिर्ज़ापुर: जनपद के जिला पंचायत सभागार में आज जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार एवं जनप्रतिनिधियो की उपस्थिति में ‘‘राष्ट्रीय पोषण माह’’ का शुभारंभ किया गया। इस कार्यक्रम में नगर विधायक रत्नाकर मिश्र, विधायक मझवा शुचिस्मिता मौर्या, केन्द्रीय मंत्री प्रतिनिधि उदय पटेल, जिला कार्यक्रम अधिकारी वाणी वर्मा नें दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम कर शुभारम्भ किया गया। इस दौरान प्रसिद्ध लोकगायिका उषा गुप्ता नें भी राष्ट्रीय पोषण माह पर बना गीत "पोषणम्-पोषणम्" गाकर लोगों को दिल जीता और महिलाओं व बच्चों को उनके स्वास्थ्य को लेकर जागरूक रहने का संदेश भी दिया।

कार्यक्रम का संचालन आर0एन0 सिंह ने किया। इस मौक पर उन्होंने कहा कि 1 सितंबर से 30 सितंबर तक शासन के निर्देश पर जनपद में चतुर्थ राष्ट्रीय पोषण माह मनाया जा रहा है। पोषण माह के सफल आयोजन पर ही पोषण अभियान प्रधानमंत्री विजन सुपोषण भारत पर आधारित  है।  प्रधानमंत्री जी के आह्वान पर इस अभियान को जन आंदोलन एवं सामुदायिक भागीदारी के साथ सफल बनाना है। राष्ट्रीय पोषण माह के प्रत्येक सप्ताह विभिन्न गतिविधियां संचालित की जायेंगी। इसके तहत प्रथम सप्ताह आंगनबाड़ी केन्द्रों, स्कूलों, पंचायत व अन्य सरकारी भवनों में खाली भूमि पर पोषण वाटिका बनाने के लिए पौधे लगाए जाएंगे।


दूसरे सप्ताह में गर्भवती महिलाओं, बच्चों एवं किशोरियों के लिए योगा सेशन का भी आयोजन किया जाएगा। पूरे महीने चलने वाले इस अभियान के तहत पोषण वाटिका, योगा सेशन, न्यूट्रीशियन किट के वितरण सहित कई कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। पोषण वाटिका की स्थापना के लिए ही परियोजना कार्यालय में आम औप अमरुद के पौधें भी लगाए जाएंगे।

इस मौके पर जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार ने कहा कि सामुदायिक लामबंदी सुनिश्चित करने और लोगों की भागीदारी को बढ़ाने के लिए, हर साल सितंबर माह को पूरे देश में पोषण माह के रूप में मनाया जाता है। यह महीना मानव शरीर के लिए सही पोषण के महत्व और भूमिका पर प्रकाश डालता है। आवश्यक पोषक तत्वों और कैलोरी के संयोजन के साथ संतुलित आहार मानव शरीर के सुचारू कामकाज और विकास के लिए महत्वपूर्ण है।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि नगर विधायक रत्नाकर मिश्र ने कहा कि महिलाएं अपने अपने पति और बच्चों की देखभाल तो करती है लेकिन अपना ध्यान रखना भुल जाती है ऐसे में उन्हें वनस्पति औषधियां, सहजन, दूब जैसे कई पौष्टिक आहार की जरूरत है। विधायक ने कहा कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन का विकास होता हैं आज के स्वस्थ बच्चे ही कल के स्वस्थ भारत की तकदीर लिखेंगे। इसलिए उन्हें खाने में बथुआ साग, पालक, नीबू, आम, आंवला, अमरूद आदि का सेवन जरूर कराना चाहिए।

जिला कार्यक्रम अधिकारी वाणी वर्मा ने जानकारी दी कि जनप्रतिनिधियो नें आंगनबाड़ी बहनों को सहजन का पौधा तो दिया है साथ ही इस मौके पर 15 महिलाओं की गोदभराई भी किया और उनकें शिशुओ का अन्नप्राशन संस्कार हुआ। उन्होंने कहा कि पोषण माह के दौरान देश भर में जमीनी स्तर तक पोषण जागरूकता से संबंधित गतिविधियां चलाई जाएंगी, महिला एवं बाल विकास विभाग जैसे कार्यान्वयन विभाग और एजेंसियां आशा, एएनएम के माध्यम से आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग के माध्यम से गतिविधियों को अंजाम देंगे।

रिपोर्ट- रवि यादव, जिला संवाददाता
मिर्ज़ापुर ऑफिशियल