आध्यात्मिक बल से भारत बना था विश्व गुरु : संत हंस देवरहा बाबा

विहिप संरक्षक आरएसएस के वरिष्ठ प्रचारक दिनेश के साथ मनोज श्रीवास्तव ने दर्शन कर की राष्ट्र हित पर चर्चा
 
devraha baba ashram mirzapur
मानव कल्याण पर चर्चा के दौरान हंस देवरहा बाबा ने कहा कि समाज के विकास को हर वर्ग की भागीदारी होती हैं


मिर्ज़ापुर: नवरात्रि पर विंध्य पर्वत स्थित संत हंस देवरहा बाबा के आश्रम पर पहुंचें विश्व हिन्दू परिषद के संरक्षक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक दिनेश जी और भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश संगठन मंत्री भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्य समिति के सदस्य मनोज श्रीवास्तव ने धर्म राष्ट्र और मानव कल्याण पर चर्चा करते हुए आशीर्वाद प्राप्त किया । 

मानव कल्याण पर चर्चा के दौरान हंस देवरहा बाबा ने कहा कि समाज के विकास को हर वर्ग की भागीदारी होती हैं । विकास की बात करने वालों को सुर तो इसके विपरित आचरण करने वालों को असुर कहा गया है । विश्व पटल पर अपनी सहिष्णुता और प्रेम सदभाव, अपनत्व और ज्ञान के बल पर भारत विश्व गुरु के पद पर आसीन था । उस खोई प्रतिष्ठा को पुनः पाने के लिए सकारात्मक सोच और ऊर्जा के साथ भारत की आध्यात्मिक शक्ति के लोग लगे हैं ।

आजादी के बाद गलत शिक्षा नीति, संस्कार और संस्कृति पर कुठाराघात के चलते अज्ञानता और स्वार्थ की गहरी खाई को पाटने में वक्त लगा । इस खाई को पाटकर भारत सबके कल्याण की बात करते हुए पुनः विश्व गुरु के पद पर आसीन होगा । 

देश की एकता, अखण्डता, भारतीय संस्कृति, सभ्यता को अक्षुण रखने का संकल्प दिलाते बाबा ने कहा कि यह देश आध्यात्मिक देश है । यहाँ के संतों और ऋषयो ने अपने आध्यात्मिकता के दम पर इस देश को विश्व गुरु के रूपमें प्रतिष्ठा दिलाई है। आधात्मिक शक्ति भारत के कारण भारत का दुनियां में अपनी एक अलग पहचान है।

इस मौके पर विश्व हिन्दू परिषद काशी प्रान्त के संगठन मंत्री मुकेश, जिला अध्यक्ष रामचंद्र शुक्ल, धर्म प्रसार के प्रांत अध्यक्ष विजय बहादुर पाण्डेय, महेश तिवारी, पूर्व काशी क्षेत्र मंत्री भाजपा युवा रविशंकर साहू, मनोज दमकल, मुकेश केशरवानी, बृजेश जायसवाल आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे ।

रिपोर्ट- रवि यादव, जिला संवाददाता
मिर्ज़ापुर ऑफिशियल