मिर्ज़ापुर: पागल युवक ने खुद को बताया अमेरिकन, मंडलीय अस्पताल में जाँच के लिए भेजा गया

श्रीकांत नाम के एक व्यक्ति ने खुद को अंग्रेज बताया, लेकिन बाद में पता चला कि, वह मानसिक रूप से कमज़ोर है।

 
Self

मंडलीय अस्पताल में जाँच के लिए भेजा।

मिर्ज़ापुर, Digital Desk: शुक्रवार की शाम को रेलवे स्टेशन पर हड़कंप सा मच गया। जब एक विदेशी नागरिक बताने वाले व्यक्ति का भंडाफोड़ हुआ और पता चला कि वह देश के नागरिक नहीं है, बल्कि इसी देश का निवासी है। उसने बताया कि वह विदेश से आया है और ट्रेन में कुछ लोगों ने उसके साथ मारपीट की है और उसका सामान भी चुरा लिया है।

पूरी घटना:

रेलवे स्टेशन पर श्रीकांत नाम के एक 32 वर्षीय युवक ने यह बताया कि वह विदेश से आया है। यानी व अमेरिका के कोलंबिया शहर में रहता है और ट्रेन में आते समय उसके साथ कुछ लोगों ने मारपीट की और उसका सामान लेकर भाग गए। मौके पर पहुंची जीआरपी और आरपीएफ ने उस व्यक्ति के बारे में जांच-पड़ताल की और मौके पर इंटेलिजेंस टीम को बुलाया। मौके पर पहुंची इंटेलिजेंस टीम ने उससे पूछताछ की तो बताया कि वह अमेरिका के कोलंबिया शहर का निवासी है। जिसका नाम श्रीकांत है और मां का नाम श्रीदेवी। लेकिन छानबीन के बाद पता चला गया व्यक्ति अमरीका का नहीं, बल्कि इसी देश का रहने वाला है और वह मानसिक रूप से बीमार है। जीआरपी की टीम ने उसे मंडली अस्पताल मेडिकल जांच के लिए भेज दिया है।

अस्पलात में भेजा:

शुक्रवार की सुबह एक 32 वर्षीय युवक ताप्ती गंगा एक्सप्रेस से मिर्ज़ापुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर परेशान दिख रहा था। तभी किसी यात्रियों से प्लेटफार्म नंबर दो पर पहुंचा दिया। इसके बाद वह डिप्टी एसएस कार्यालय में पहुंच गया और कहा कि उसका सामान चोरी हो गया है और शोर मचाने लगा। वह विदेशी भाषा में बात कर रहा था, इसलिए किसी को उसकी भाषा समझ में नहीं आई। युवक की हरकत को देखते हुए रेलवे ने जीआरपी को सूचना दी। टीम मौके पर पहुंची और लगभग 1 घंटे तक पूछताछ करने के बाद पता चला कि इसका सामान चोरी हुआ है और मारपीट भी हुई है। लेकिन बाद में पता चला कि वह विदेश का नहीं बल्कि इसी देश का निवासी है और मानसिक रूप से कमजोर है। उसे शांत कराया गया था, क्योंकि वह काफी गुस्से में था और शोर मचा रहा था। ऐसे में अपना नाम बार-बार श्रीकांत और माँ का नाम श्रीदेवी बता रहा था।

ऐसे हुई पहचान:

श्रीकांत के गले में एक माला थी और हाथ में खड़ा भी पहना हुआ था। जिससे बाद में पता चला कि वह विदेश में नहीं बल्कि इसी देश का निवासी है। बाद में पता चला कि वह मानसिक रूप से बीमार है और वह दक्षिण भारत का निवासी है। जीआरपीएफ और आरपीएफ की टीम ने उसे मंडली अस्पताल में भर्ती कराया है, जहां पुलिस सुरक्षा कर्मी तैनात हैं।