मिर्ज़ापुर: मगरमच्छों के कारण मड़िहान छेत्र में डर का माहौल, शाम को रास्ता हो जा रहा है बंद

मिर्ज़ापुर के मड़िहान क्षेत्र में मगरमच्छों ने अपनी दहशत बनाकर रखी है। जिसके वजह से आम नागरिकों को बड़ी दिक्कत हो रही है एवं डर के मारे उन्होंने शाम को घर से निकलना बंद कर दिया है।

 
image source: bbc

मड़िहान में मगरमच्छ की दहशत।

मिर्ज़ापुर, Digital Desk: मड़िहान क्षेत्र के देवपुरा ग्राम में मगरमच्छों ने अपना आतंक बना कर रखा है। जिसकी वजह से वहां के ग्रामीण बड़े ही भयभीत हो गए हैं, क्योंकि मगरमच्छ रात के वक्त तालाबों से निकलकर भोजन की तलाश में बस्ती में प्रवेश कर जा रहे हैं। जिसके बाद वह वहाँ के पालतू जानवरों को अपना शिकार बना रहे हैं।

ग्रामीणों का शाम को निकला मुश्किल:

मड़िहान क्षेत्र में 3 तालाब हैं और तीनों तालाबों में एक-एक मगरमच्छ अपना डेरा डाले रखे हैं। बीते 10-15 दिनों में इन मगरमच्छों ने लगभग एक दर्जन पशुओं को अपना शिकार बना लिया है। जिसकी वजह से ग्रामीण रात को शौचालय जाने से भी डरने लगे हैं, क्योंकि मगरमच्छ शाम को ही निकलते हैं।

लोगों ने बताया कि मगरमच्छों ने गाय, बकरी, कुत्ते और बिल्लियों को अपना भोजन बनाया है। मछली पालन करने वाले लोगों के पोखरें में भी यह मगरमच्छ घुस आए और लाखों रुपए की मछलियां खा गए, जिसकी वजह से उन्हें काफी आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा।

ग्राम प्रधान ने बताया कि तालाब के भीटे पर एक सामुदायिक शौचालय बनाया गया है। दिवाली के दिन भी मगर 4 पशुओं को पकड़कर तालाब में ले गए। कई बार वन विभाग के अधिकारी वहां पर आए, लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई है। एक कारण यह भी है कि तालाब में बहुत अधिक पानी है, जिसकी वजह से मगरमच्छों को पकड़ने का आधुनिक संसाधन नहीं है। वन अधिकारियों ने बताया कि जब तक तालाब में पानी कम नहीं होगा तब तक उन्हें पकड़ना बहुत मुश्किल है।