मिर्ज़ापुर: हवालात में कैदियों के पास मिला Mobile तो 5 साल की सज़ा बढ़ेगी और जुर्माना भी लगेगा

1984 की धारा 42 व और 43 में बदलाव करते हुए एक नया नियम जारी किया गया है। जिसके तहत अगर कैदी कारावास के दौरान मोबाइल या इलेक्ट्रॉनिक उपकरण का इस्तेमाल करते पकड़े जाते हैं। तो उनकी सजा 5 साल के लिए और बढ़ा दी जाएगी एवं उन्हें 50,000 तक जुर्माना भी भरना पड़ेगा।

 
image source : up city news
5 साल की सज़ा, और 50000 जुर्माना।
मिर्ज़ापुर, Digital Desk: प्रदेशभर के जिलों में बंद किए गए कैदी अगर मोबाइल फोन या अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस, इंटरनेट वाईफाई या किसी भी प्रकार का संचार उपकरण की सुविधा इस्तेमाल करते हुए वे पाए गए, तो उन्हें कड़ी सजा मिलेगी। बताया जा रहा है कि पकड़े जाने पर उन्हें 5 साल की कैद एवं 50 हज़ार तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है। इसके पहले कर्मचारियों को निलंबित कर दिया जाता था, उनपर कार्यवाही होती थी। लेकिन इस नियम को रखते हुए, इसी सूची में एक और नियम लागू कर दिया गया है। जिसके तहत अगर बंदियों के पास मोबाइल फोन या कोई भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण पाया जाता है, तो उनके खिलाफ भी पुलिस प्रशासन सख्त कार्यवाही करेगी।

सज़ा में 5 साल की बढ़ोतरी और 50 हज़ार का जुर्माना:

बताया जा रहा है कि नए नियम के अनुसार अगर कैदी मोबाइल फोन में किसी भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का इस्तेमाल करते हुए पकड़े जाते हैं, तो उनकी सजा में 5 वर्षों के कारावास की वृद्धि कर दी जाएगी, यानी कि उन्हें 5 साल की सजा मिलेगी। वही उन्हें ₹50000 तक का जुर्माना भी
 भरना पड़ेगा है। अगर वह जुर्माना नहीं भरते हैं, तो कारावास के तौर पर उन्हें जुर्माने की रकम चुकानी पड़ेगी।

1984 की धारा 42व और 43 में बदलाव:

इस धारा में बदलाव करते हुए नए कानून लाए गए हैं। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि अगर कैदी के पास मोबाइल फोन मिलता है तो उसे 5 साल की सजा और ₹50000 जुर्माना भरना पड़ेगा। अगर जेल का कोई कर्मचारी उनकी मदद करता है, तो उन्हें भी कार्यवाही का सामना करना पड़ सकता है। इतना ही नहीं जेल में पकड़े गए कैदी के साथ-साथ उसके स्वजन को भी सजा भुगतनी पड़ सकती है। यानी की जेल का कैदी जिस भी व्यक्ति से बात कर रहा होगा, कैदी के साथ-साथ उसे भी इस बात की सजा मिलेगी।

पहले क्या होता था?

पहले यह नियम था कि जेल में कैदी की मदद करने वाले व्यक्ति को सजा सुनाई जाती थी। लेकिन अब मदद करने वाले व्यक्ति के साथ-साथ कैदी को भी सजा सुनाई जाएगी एवं कैदी जिससे बात कर रहा होगा, उसे भी सजा सुनाई जाएगी।