Mirzapur-Varanasi Boat Accident: नाव पलटने से तीन लड़कियों अभी तक लापता, एक महिला को बचाया गया

मिर्ज़ापुर में अदलहाट थाना क्षेत्र के रैवपुरिया घाट के समीप रविवार को एक नाव हादसा हो गया। जिसमें गंगा में तीन युवती के डूबने की आशंका है, 24 घंटे बीत चुके हैं लेकिन उनका कोई पता नहीं चला।

 
image : live hindustan
गंगा के तेज बहाव में डूबी तीन लडकियां। आकांक्षा, साक्षी और शिवांगी लापता...

मिर्ज़ापुर, Digital Desk: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में नारायणपुर रैवपुरिया के गंगा घाट के समीप नाव पलटने के बाद तीन लड़कियां गंगा में डूब गई। नाव डूबने की खबर आग की तरह फैल गई। खबर के मुताबिक नाव में डूबी एक महिला को तो बचा लिया गया। लेकिन तीन लड़कियां अब 24 घंटे बीत चुके हैं फिर भी लापता है, यह सभी वाराणसी स्थित टिकरी गांव की निवासी है। अदलहाट थाना ग्राम स्तिथ गंगा किनारे सूरदास आश्रम पर आयोजित भंडारे में प्रसाद ग्रहण करने के बाद यह लड़कियां गांव से घर जा रही थी। तभी अचानक नाव पलटने के कारण 3 लड़कियां गंगा में ही लापता हो गई। एक महिला और नाव चलाने वाले नाविक को बचा लिया गया। लेकिन 3 बच्चियां अभी भी लापता है, मौके पर तत्काल प्रभाव से मिर्ज़ापुर एवं वाराणसी की पुलिस पहुंच गई और जानकारी के मुताबिक नाव पर 5 लोग सवार थे। जिनमें से दो को तो बचा लिया गया लेकिन 3 बच्चियां अभी भी लापता है।

चितईपुर की निवासी थी, तीन लड़कियां:

बताया जा रहा है कि तीनों महिला बच्चियां चितईपुर वाराणसी के निवासी हैं। बालकिशन यादव नाम के व्यक्ति ने तीनों के गायब होने की शिकायत चितईपुर में करवाई। उसके बाद पता चला कि यह तीनों बच्चियां जो डूब गई है, यही की निवासी थी। एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची और सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया गया। लेकिन अब 24 घंटे बीत चुके हैं और 3 बच्चियों का पता अभी तक नहीं चला है। नाव में कुल 1 आदमी और 4 महिलाएं थी, एक महिला को बचा लिया गया है फिर भी एक महिला अभी भी लापता है। जैसे ही कोई जानकारी मिलेगी, हम आपको जानकारी प्रदान करेंगे।

पीपापुल के कर्मचारी गायब:

ग्रामीणों ने बताया कि नाव दुर्घटना के बाद पीपापुल का निर्माण करने वाले कर्मचारियों ने मौके से फरार होना बेहतर समझा और वह वहां से भाग निकले। अगर वह चाहते तो लड़कियों की जान बचा सकते थे, लेकिन वे मौके से फरार हो गए। मौके पर पहुंचे सपा नेता रामराज सिंह पटेल ने बताया कि अधिकारी मुख्यमंत्री के कार्यक्रम को लेकर मीटिंग में व्यस्त हैं। समय पर कोई भी राहत कार्य शुरू नहीं कर पाया, जिसकी वजह से यह लड़कियां लापता हो गई।