Mirzapur News: महीनों से चल रहा था घर में माँ की पेंशन को लेकर विवाद, युवक ने घर के तीन सदस्यों को कुल्हाड़ी से काँटा

मिर्ज़ापुर में पागल देवर ने अपनी भाभी, भतीजे और भतीजी को मौत के घाट उतार दिया। देवर ने कुल्हाड़ी का इस्तेमाल करते हुए, इन तीनों को जान से मार दिया, 2 मर गए, भतीजा गंभीर रूप से घायल फिर मौत। विवाद माताजी के पेंशन को लेकर था।

 
image source: news18
कुल्हाड़ी से देवर ने घर के तीन सदस्यों को काट डाला, भतीजा गंभीर रूप से घायल फिर मौत।
मिर्ज़ापुर, Digital Desk: मिर्ज़ापुर ज़िले के कटरा कोतवाली क्षेत्र के डांगरा इलाके में कई महीनों से माँ की पेंशन को लेकर घर वालों के बीच अक्सर आए दिन विवाद होता रहता था। यह विवाद कभी-कभी इतना भयानक रूप ले लेता था कि, पूरा मोहल्ला इनकी लड़ाई का लुफ्त उठाता था। लेकिन यह विवाद अपराध का रूप ले लेगा, यह किसी ने न सोचा था। देवर ने भाभी, भतीजे और भतीजी को कुल्हाड़ी से काँटकर मार डाला, जिसके बाद 2 सदस्यों की वहीं पर मृत्यु हो गई, और भतीजा ज़िंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रहा था, अंततः उसकी भी मौत हो गई।

आरोपी देवर गिरफ्तार:

शनिवार के दिन युवक का और भाभी का माताजी की पेंशन को लेकर विवाद अपने चरम पर पहुंच गय। जहां गुस्से में युवक ने अपनी भाभी, भतीजे और भतीजी को कुल्हाड़ी से काटकर मौत के घाट उतार दिया। आरोपी युवक का नाम रामनारायण था, जिसे पुलिस ने तत्काल प्रभाव से गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस का कहना है कि विवाद माताजी की पेंशन को लेकर था, माताजी की पेंशन को लेकर आए दिन विवाद होता रहता।

घर पर नहीं थे बाकी सदस्य:

जिस वक्त इस घटना को अंजाम दिया जा रहा था, उस वक्त घर के बाकी सदस्य सोनभद्र बहन के घर गए हुए थे। दोपहर के लगभग 1:30 बजे यज्ञनारायण की पत्नी रेणु, बेटी हर्षिता और बेटा आरुष घर पर थे और मां कलावती देवी के यहां पड़ोस में गई थी। इसी दौरान रामनारायण घर पहुंचा और बारी-बारी सभी को भाभी, भतीजा आरुष और भतीजी हर्षिका को उसने कुल्हाड़ी से मार काट डाला। इस घटना के दौरान भतीजी और भाभी की मृत्यु हो गई, भतीजा गंभीर था लेकिन वाराणसी ट्रामा सेंटर में इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई।

भागी भतीजी, लेकिन बच नहीं पाई:

घटना के बाद भतीजी डर गई थी और घर में भागने लगी, लेकिन पागल देवर ने उसे भी नहीं बख्शा और पीछे से उसके सर पर कुल्हाड़ी मारी, जिसके बाद बच्ची की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि, भतीजा विकलांग था जब चाचा ने उसे कुल्हाड़ी से मारा तो, वह गंभीर रूप से घायल हो गया। ट्रामा सेंटर इलाज के लिए ले गया गया, लेकिन उसकी मृत्यु हो गई।

माँ की पेंशन बना विवाद:

इस पूरे विवाद की जड़ माताजी की पेंशन है। माताजी की पेंशन को लेकर आए दिन घर में विवाद होता रहता था। माताजी की पेंशन भाभी का परिवार इस्तेमाल करता था और मां इसमें से किसी को भी 1 रुपया नहीं देती थी। इसके बाद से नाराज़ पागल देवर ने सबको मौत के घाट उतार दिया।