चुनावी चर्चा: मिर्ज़ापुर का चुनावी माहौल, कितना खुश-नाख़ुश है मौजूदा सरकार से मिर्ज़ापुर की जनता?

एक रिपोर्ट, जिसमें हम आपको बताएंगे कि मिर्ज़ापुर की जनता आने वाले चुनाव में किस पार्टी को वोट देगी एवं किसका समर्थन करेगी?

 
who will win up election 2022

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर अब सभी जिलों में चुनावी माहौल गर्म है, कौन मारेगा मिर्ज़ापुर की सीट पर बाज़ी?


मिर्ज़ापुर, Digital Desk: मिर्जापुर की विधानसभा सीट पर हमेशा से ही भारतीय जनता पार्टी एवं समाजवादी पार्टी का दबदबा रहा है। इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी के Sarjeet Singh Dang लगभग 4 बार इस सीट पर चुनाव जीत चुके हैं। हाल ही में एमएलए Court द्वारा वारंट जारी किए जाने वाले Kailash Chaurasia भी यहाँ से लगभग 3 बार एमएलए का पद संभाल चुके हैं। फिलहाल भारतीय जनता पार्टी के रत्नाकर मिश्रा पद पर काबिज़ हैं। लेकिन इतिहास इतिहास ही होता है, इंसान को हमेशा भविष्य के बारे में सोचते रहना चाहिए।

मिर्ज़ापुर के विधानसभा चुनाव सीट का भविष्य आज हम अपनी स्पेशल रिपोर्ट के द्वारा आपको बताने की कोशिश करेंगे। जनता से पूछे गए सवाल-सर्वे द्वारा जनता से मौजूदा सरकार के कामकाज पूर्व सरकार के कामकाज की सभी रिपोर्ट को हम आपको बताएंगे।

किसी भी मुद्दे पर जब हम वार्तालाप या बहस करते हैं तो उसके दो ही निष्कर्ष निकलते हैं। ऐसा ही कुछ हमारी इस रिपोर्ट में भी आपको पढ़ने को मिलेगा। हम जो मिर्ज़ापुर की जनता का जवाब आप सबके सामने लेकर आए हैं, वह भी दो पक्षों में है। पहले पक्ष तो मिर्ज़ापुर की जनता वापस इसी सरकार को पुनः विजय बनाना चाहती है, वही दूसरा पक्ष समाजवादी पार्टी को वापस सरकार में लाना चाहता है। तो आइए बात करते हैं कि जनता मौजूदा सरकार के किन मुद्दों पर खुश है और किन मुद्दों पर उन्हें मौजूदा सरकार से नाराजगी है। इसलिए वे दूसरी सरकार को इस सीट पर लाना चाहती है।

किस बात से खुश है मिर्ज़ापुर की जनता?

जब मिर्ज़ापुर की जनता से यह पूछा गया कि, वह किस बारे में खुश है तो उन्होंने कई सारी बातें बताई। जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी का पुनः इस सीट को जीतने का आसार नजर आ रहा है। आइए उन सभी बातों को हम पॉइंट्स में आपको बताते हैं -

बिजली - बिजली के मुद्दे पर मिर्ज़ापुर की जनता योगी सरकार से खुश है। मिर्जापुर की जनता का यह कहना है कि पहले बिजली चली जाती थी, तो हमें भरोसा नहीं होता था कि बिजली कब आएगी और अगर ट्रांसफार्मर उड़ जाता था, तो हमें स्वयं पैसे देकर ट्रांसफार्मर लगवाना पड़ता था। लेकिन अब ऐसा नहीं होता ट्रांसफार्मर उड़ने पर पुनः बिना कोई पैसा दिए ही ट्रांसफार्मर बदल दिया जाता है एवं हमें बिजली भी चौबीसों घंटा मुहैया कराई जाती है। वहीं विपक्ष के खड़े एक व्यक्ति ने कहा कि पूर्व की सरकार में भी पहले 17-18 घंटे बिजली आया करती थी।

पानी - पानी की समस्या गांव के हर क्षेत्र में हुआ करती थी। लेकिन मिर्जापुर की जनता का यह मानना है कि, योगी सरकार जब से आई है पानी की समस्या कम होती नजर आ रही है। हमें अब पानी हर वक्त मिलता रहता है एवं पानी भी साफ सुथरा है एवं पीने लायक है।

परिवहन - परिवहन के मुद्दे पर भी मिर्जापुर की जनता ने योगी सरकार का समर्थन किया। योगी सरकार ने कहा कि पहले सड़कें इतनी खराब हुआ करती थी की आंखों में धूल चली जाए करती थी। लेकिन बीते कुछ सालों में हाईवे लेन के निर्माण से अब हर मार्ग कुछ ही मिनटों एवं घंटों में हम हासिल कर लेते हैं। मिर्ज़ापुर से बनारस जाने में पहली 2.5 घंटे लग जाया करते थे। लेकिन मात्र 1 घंटे में अब वहां आसानी से पहुंचा जा सकता है। वहां खड़े विपक्ष ने इस बात को कहा कि हाईवे का निर्माण समाजवादी पार्टी द्वारा शुरू किया गया था।  लेकिन दूसरे शख्स ने कहा शुरू समाजवादी पार्टी ने किया था, लेकिन खत्म योगी सरकार ने किया।

भू- माफिया -"भू-माफिया बन गए है मुर्गी" पहले जिलों में एवं गांवों में भूमाफियों द्वारा गरीबों की संपत्तियों पर कब्जा कर लिया जाता था। जिसकी वजह से वह बड़े परेशान होते थे एवं आत्महत्या करने पर भी उन्हें मजबूर किया जाता था। लेकिन योगी सरकार ने भू-माफियाओं का अब सफाया कर दिया है, जिसकी वजह से लोग इस जनता से काफी खुश हैं।

रोज़गार - भू-माफियों ने जब जमीन खाली कर दी है, तो विदेशी कंपनियों का उत्तर प्रदेश में अब इन्वेस्टमेंट होगा। जिसके बाद विदेशी कंपनियों द्वारा उत्तर प्रदेश के निवासियों को भी नौकरी मुहैया कराई जाएगी। इस वजह से उन्हें दूसरे प्रदेश में पलायन नहीं करना पड़ेगा और अपने घर पर रहकर ही पैसे कमाने का मौका मिलेगा।

सुरक्षा - सुरक्षा के मुद्दे पर भी मिर्जापुर की जनता ने योगी सरकार का साथ दिया। मिर्ज़ापुर की जनता का यह मानना है कि योगी सरकार में आज बहू-बेटियां सुरक्षित महसूस करती हैं एवं किसी भी समय घर से निकलने में डरती नहीं है। आराम से कॉलेज जाती है, पढ़ाई करती हैं।

5000 करोड़ का इन्वेस्टमेंट - अमित शाह द्वारा मिर्ज़ापुर के डेवलपमेंट को लेकर लगभग 5000 करोड़ का निवेश किया गया। इसके बाद मिर्जापुर कॉरिडोर एवं मिर्जापुर के डेवलपमेंट पर इन पैसों को खर्च किया जाएगा।

मेडिकल कॉलेज - मिर्जापुर में कभी मेडिकल कॉलेज नहीं हुआ था। इतनी साल सरकार रही चाहे वह भारतीय जनता पार्टी की रही हो, यह समाजवादी पार्टी की रही हो, किसी ने मेडिकल कॉलेज को लेकर कभी जोर नहीं दिया होगा। लेकिन योगी सरकार द्वारा मिर्ज़ापुर में भी अब मेडिकल कॉलेज खुलने जा रहा है। जिसे जिसको मिर्ज़ापुर की एक बड़ी उपलब्धि के तौर पर माना जा रहा है, क्योंकि इस मेडिकल कॉलेज में हर तरह की मेडिकल सुविधा प्रदान कराई जाएगी।

किसान - कर्ज़ चुकाने की वजह से किसान को अपनी जमीन से हाथ धोना पड़ता था। यही नहीं किसान आत्महत्या करने पर भी मजबूर हो जाता था, क्योंकि सरकारी अफसर उनके पैसे खा जाते थे। लेकिन अब मोदी सरकार द्वारा किसानों को डायरेक्ट ही उनके अकाउंट में पैसे भेज दिए जाते हैं। जिससे की वे आत्महत्या करने पर मजबूर नहीं होते एवं आराम से खेती-बाड़ी करते हैं। इस बात पर भी मिर्ज़ापुर की जनता ने योगी सरकार का साथ दिया।


किस बात से नाख़ुश है मिर्ज़ापुर की जनता?

महँगाई - इसमें कोई दो राय नहीं है कि महंगाई इस वक्त अपनी चरम सीमा को भी पार कर चुकी है। महंगाई का की मार इस वक्त सबसे ज्यादा आम आदमी को झेलनी पड़ रही है। चाहे वह पेट्रोल हो, खाना पकाने का तेल हो या फिर अन्य जरूरी रोजमर्रा की इस्तेमाल होने वाली चीजें हो। इन सब की कीमतों में मुनाफा इजाफा होने के कारण मिर्ज़ापुर की जनता योगी सरकार से नाखुश है एवं पूछने पर उन्होंने इस बात पर अपनी असहमति जताई।

रोज़गार - रोजगार के मुद्दे पर मिर्ज़ापुर की जनता द्वारा 2 तरह के जवाब हमें सुनने को मिले एक तरफ तो जनता बेरोजगारी के मुद्दे पर भी योगी सरकार का सहयोग कर रही है। लेकिन, दूसरी तरफ वाली जनता ने कहा कि योगी सरकार केवल ढकोसला बतियाती है, बड़ी-बड़ी बातें करती है। लेकिन कभी रोजगार मुहैया नहीं कराती जिसपर वह खुश नहीं है। लोगों का यह कहना है कि फॉर्म के पैसे ज्यादा होते हैं, लेकिन सीट कम रहती है एवं परीक्षा भी कराई नहीं जाती, केवल फॉर्म भरा कर छोड़ दिया जाता है।

क्या है जनता का जवाब?

दोनों तरफ के पक्ष का हमने जवाब सुना, तो हमें यह निष्कर्ष मिला कि डेवलपमेंट और इनवेस्टमेंट के तौर पर तो जनता भारतीय जनता पार्टी से काफी खुश है एवं दोबारा उन्हें देखना चाहती है। लेकिन महंगाई बेरोजगारी के मुद्दे पर वह भारतीय जनता पार्टी को सपोर्ट करने पर विवश हो जाते हैं। महंगाई और बेरोजगारी दो ऐसे मुद्दे हैं कि जिसके बिना इंसान का गुजारा नहीं चल सकता। इसीलिए अगर आने वाले चुनावी कैंपेन में भारतीय जनता पार्टी बेरोजगारी एवं महंगाई के मुद्दे पर कुछ निष्कर्ष निकल पाए और जनता को थोड़ी राहत दे, तो यह आसार नजर आ रहे हैं कि इस साल भी भारतीय जनता पार्टी ही बड़े मार्जिन से उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को जीतने में सफल रहेगी।

ऐसा लोगों के जवाब द्वारा हमें लगा, लेकिन इस बार किस पार्टी के किस नेता को किस सीट पर लड़ाया जाएगा, यह भी एक अहम मुद्दा है। क्योंकि पार्टी का प्रतिनिधि सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि पार्टी एवं जनता सबकी उम्मीद वही होता है। इसलिए पहले से किसी रिजल्ट पर पहुंचना भी सही नहीं होगा, यह जनता द्वारा दिए गए जवाब है। जिसके अनुसार हमने आपको यह रिपोर्ट तैयार करके बताई है।