कृषि निर्यात नीति के अन्तर्गत जिला स्तरीय कलस्टर सुविधा इकाई की बैठक हुई सम्पन्न

सीडीओ की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में उत्तर प्रदेश कृषि निर्यात नीति 2019 के अन्तर्गत जिला स्तरीय कलस्टर सुविधा इकाई की बैठक का अयोजन किया गया

 
सीडीओ की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय कलस्टर सुविधा इकाई की बैठक का अयोजन किया गया
काला चावल तथा बासमती को छोड़कर अन्य चावलो जैविक खेती आदि को प्रभावी बनाते हुये निर्यात की श्रेणी में लाने व प्रयास करने का निर्देश दिया

मिर्ज़ापुर: मुख्य विकास अधिकारी श्रीलक्ष्मी वीएस  की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में उत्तर प्रदेश कृषि निर्यात नीति 2019 के अन्तर्गत जिला स्तरीय कलस्टर सुविधा इकाई की बैठक का अयोजन किया गया। बैठक में उत्तर प्रदेश कृषि निर्यात नीति के नोडल अधिकारी/कृषि विपणन एवं कृषि निवेश व्यापार के जनपदीय अधिकारी ज्येष्ठ विपणन निरीक्षक के अनुदानाक पर विस्तृत चर्चा की गयी। जनपद में नीति निर्यात कार्यान्वयन के बारे में उपस्थित कृषको को जानकारी दी गयी।

निर्यात नीति के अन्तर्गत जनपद में कृषि उत्पाद के कलस्टर गठन के सम्बन्ध में मुख्य विकास अधिकारी द्वारा सम्बन्धित विभाग यथा मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, उप निदेशक कृषि, मत्यस्य विभाग से कहा गया कि मत्स्य एवं पशु पालको का भी उन्नति प्रजाति के बीज/नस्ल के पशु व मत्स्य उपलब्ध कराते हुये कलस्टर बनाकर उन्हे प्रशिक्षित किया जाय ताकि उनके उत्पादो को मार्केटिंग व्यवस्था उपलब्ध कराते हुये निर्यात कराया जा सकें। उन्होने काला चावल तथा बासमती को छोड़कर अन्य चावलो जैविक खेती आदि को प्रभावी बनाते हुये निर्यात की श्रेणी में लाने का प्रयास करने का निर्देश दिया।

उपस्थित किसानो के द्वारा पारम्परिक खेती यथा गेहूॅ, चावल, टमाटर मिर्च, केला आदि के भी उन्नति प्रजाति के बीज उपलब्ध कराने का सुझाव दिया ताकि अच्छी पैदावार कर निर्यात की श्रेणी में लाया जा सके। बैठक में उप निदेशक कृषि डाॅ अशोक उपाध्याय, सहायक निदेशक मत्स्य, जिला कृषि अधिकारी पवन प्रजापति, जिला उद्यान अधिकारी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी के अलावा अन्य सभी सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहें।

रिपोर्ट- रवि यादव, जिला संवाददाता
मिर्ज़ापुर ऑफिशियल