ख़त्म हुआ मिर्ज़ापुर के लोगों का इंतेज़ार 331 करोड़ की लागत से बनेगा विंध्य कॉरिडोर, अमित शाह ने किया था शिलान्यास

अगस्त महीने में गृह मंत्री अमित शाह द्वारा बहुप्रतीक्षित विंध्य कॉरिडोर का शिलान्यास किया गया था, जल्द ही विंध्य कॉरिडोर का निर्माण शुरू होने वाला है।

 
self

331 करोड़ की लागत से बनेगा विंध्य कॉरिडोर।

मिर्ज़ापुर, Digital Desk: मिर्ज़ापुर में माता विंध्यवासिनी का धाम एक पवित्र स्थल है। माना जाता है कि जो भी व्यक्ति सच्चे मन से मां से मुरादे मांगता है, मां उनकी सभी इच्छाओं को पूर्ण करती है। इसलिए व्यक्ति भारत देश में जहां भी है, वह एक बार माता विंध्यवासिनी के धाम पर माथा टेकने ज़रूर जाता है। केवल आम आदमी नहीं बल्कि नेता से लेकर अभिनेता तक हर व्यक्ति माता के धाम अपनी कामना के लिए जाता है। ऐसे में सरकार को भी अंदाजा है कि माता विंध्यवासिनी का धाम एक  बड़ी ही खास जगह है। ऐसे में इस जगह को और खूबसूरत बना दिया जाए, तो यहां का टूरिस्ट अट्रैक्शन भी ज्यादा हो जाएगा।

दिसंबर से निर्माण शुरू:

अगस्त के महीने में गृह मंत्री अमित शाह द्वारा विंध्य कॉरिडोर का शिलान्यास किया गया था। अमित शाह ने इसका शिलान्यास किया था, लेकिन निर्माण कब से शुरू होगा इस बात की जानकारी किसी को भी नहीं थी। लेकिन काशी विश्वनाथ की तर्ज पर एक 331 को रुपए की लागत से विंध्य कॉरिडोर का निर्माण दिसंबर महीने में शुरू होने जा रहा है। बताया जा रहा है कि नवंबर तक सारी प्रक्रिया पूरी हो जाएगी और दिसंबर के प्रथम सप्ताह से कॉरिडोर का निर्माण का कार्य शुरू हो जाएगा।

बताया जा रहा है कि शारदीय नवरात्र की वजह से कॉरिडोर निर्माण की प्रक्रिया रुक गई थी, लेकिन इस बीच निर्माण कार्य के लिए होने वाली टेंडर प्रक्रिया पूर्ण करने का मौका मिल गया। शिलान्यास के बाद कॉरिडोर के निर्माण के लिए ₹128 करोड़ की मंजूरी मिल गयी। फिर दिवाली के 1 दिन पहले 45 करोड़ का और फिर 40 करोड़ का जिओ हुआ, अब 41 करोड़ की एक और जियो होना है,  जो जल्दी ही हो जाएगी। नवंबर तक इस मामले को लेकर सारी प्रक्रिया पूर्ण हो जाएगी और दिसंबर के प्रथम सप्ताह से कॉरिडोर का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।

योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट:

विंध्य कॉरिडोर योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट है जिसके लिए वह कोई भी कसर नहीं छोड़ेंगे। योगी आदित्यनाथ का यह ड्रीम प्रोजेक्ट ,  बनने के बाद यह बड़ा ही खूबसूरत लगेगा और लाखों लोग इस जगह से प्रभावित होकर यहां जरूर आएंगे।

कॉरिडोर की विशेषता:

19 नवंबर को परिक्रमा पथ निर्माण के लिए लेजर तकनीक से ना पाई भी हुई थी, निर्माण के बाद यह जगह और भी खूबसूरत हो जाएगी। बताया जा रहा है कि परिक्रमा पर 50 फीट का होगा, नई वीआईपी गली 35 फीट की, पुरानी वीआईपी गली 40 फीट की, कोतवाली गली 35 फीट की और पक्का घाट मार्ग 35 फ़ीट का होगा।

कॉरिडोर का निर्माण शुरू होने से पहले ही नगर पालिका की सफाई व्यवस्था ध्वस्त हो गई है। विंध्यवासिनी मंदिर जाने वाले मुख्य मार्ग थाना कोतवाली रोड पर गंदगी का अंबार लगा हुआ है नालियां भी जाम हो गई है। इसके बाद सड़क पर अब नाली की गंदगी बहने लगी है, दर्शन करने वाले लोगों को इससे काफी परेशानी हो रही है। स्थानीय लोगों का कहना है कि कॉरिडोर निर्माण के के बाद वैसे ही हर तरह से उबड़ खाबड़ हो गया है। ऐसे में दर्शनार्थियों के साथ-साथ स्थानीय लोगों को भी ढेर सारी असुविधा हो रही है। इसका मुख्य कारण सफाई व्यवस्था में शिष्ट न होना है। बताया जा रहा है कि सफाई के लिए नगर पालिका की ओर से सफाई कर्मी लगाए गए हैं, लेकिन सफाई कर्मी नजर नहीं आते।