मिर्ज़ापुर के युवक ने लुधियाना में खोए हुए बच्चें को सही सलामत घर तक पहुँचाया, जानिए पूरी घटना

KCM स्कूल से चार दिन से लापता छात्र लुधियाना स्टेशन के पास मिला। मिर्ज़ापुर के युवक ने बच्चें को सही सलामत उसे उसके घर पहुँचाया।

 
IMAGE SOURCE : LIVE HINDUSTAN

मोरादाबाद के KCM School का छात्र, लुधियाना स्टेशन के पास मिला।

Mirzapur, Digital Desk: मोरादाबाद के एक स्कूल का छात्र पिछले 4 दिन से लापता था। छात्र का नाम अर्चित है, बताया जा रहा है कि, छात्र को शिक्षकों द्वारा डाँट दिया गया, इतना ही नहीं अर्चित को डाँटने के साथ-साथ हाथ पकड़कर घर से बाहर निकाल दिया था।

क्या थी पूरी घटना:

पूरा विवाद तब उत्पन्न हुआ, जब मुरादाबाद के स्कूल में पढ़ने वाले छात्र नाम अर्चित को वहां के शिक्षकों ने खूब डांटा, डांटने के साथ-साथ उन्होंने अर्चित को हाथ पकड़कर उसे स्कूल से बाहर निकाल दिया। अर्चित लापता हो गया जब 1 दिन तक घर वापस लौटा तो मंगलवार को स्कूल के गेट पर उसके परिवार वालों ने धरना देना शुरू कर दिया। छात्र के मामा ने शिक्षक पर आरोप लगाया और मौके पर आत्मदाह करने की भी धमकी दी। पुलिस को इस बात की सूचना लगी तो मौके पर पहुंची और घर वालो को शांत करा कर घर भेजा। इसके बाद पुलिस अपनी कार्यवाही में लग गई, पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की मदद से छात्र को ढूंढने की कोशिश की। रेलवे स्टेशन में देखी गई सीसीटीवी फुटेज के मुताबिक, अर्चित दोपहर के लगभग 2:30 बजे रेलवे स्टेशन पर पहुंचा था और वही प्लेटफार्म नंबर की एक गाड़ी पर राजधानी ट्रेन में सवार होकर लखनऊ चला गया। जब अर्चित लखनऊ पहुंचा तो वहां से पंजाब मेल की ट्रेन में बैठकर पंजाब पहुंच गया और बुधवार सुबह लुधियाना स्टेशन में पहुंच गया।

मोरादाबाद के स्कूल का छात्र पहुँचा, लुधियाना स्टेशन:
अर्चित अब लुधियाना स्टेशन पर था, अपने परिवार से इतने हजारों किलोमीटर दूर। अर्चित वहां पर किसी को नहीं पहचानता था, लुधियाना स्टेशन की सीढ़ियों पर अर्चित बैठा हुआ था। इसी दौरान लुधियाना स्टेशन पर वेटर का काम करने वाले मिर्ज़ापुर चुनार थाना का निवासी, सुरेश कुमार मिश्रा की नजर स्कूल ड्रेस पहने इस छात्र पर पड़ी। छात्र ने पूछताछ के दौरान बताया कि, वह मुरादाबाद से भागकर यहां आ गया है, कुछ काम करना चाहता है। सुरेश मिश्रा ने अर्चित को काफी देर तक समझाया, इसके बाद वह छात्र को बस से मुरादाबाद ले गया और उसे परिवार वालों के हवाले कर दिया। बच्चा मिलने पर अर्चित के परिवार वाले काफी खुश हुए। मौके पर पुलिस पहुंची, बच्चे और सुरेश मिश्रा से पूरे मामले की जानकारी ली।

मिर्ज़ापुर का निवास बना मसीहा:

मिर्ज़ापुर का निवासी सुरेश मिश्रा लुधियाना स्टेशन पर वेटर का काम करता था। उसने बिना किसी स्वार्थ के, अर्चित को घर सही सलामत पहुंचाया। जब अर्चित को परिवार वालों ने देखा तो वह गदगद हो गए। परिवार वालों ने सुरेश कुमार मिश्रा का तहे दिल से शुक्रिया किया, पुलिस ने भी सुरेश कुमार मिश्रा को सम्मान व्यक्त किया।