UP Elections 2022: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव निकट है, जानिए मिर्ज़ापुर विधानसभा सीट का हाल

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव(UP ELECTIONS 2022) में विधायकों से नाराजगी दिखा सकते हैं रंग।

 
image: hindustan

मिर्ज़ापुर विधानसभा सीट के बारे में, लोगों की क्या है राय।

मिर्ज़ापुर, Digital Desk: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की सूची जारी हो चुकी है, यह चुनाव 7 चरणों में होने वाले हैं। ऐसे में अब सबकी नजर अपने जिले में होने वाले चुनाव पर टिकी हुई है। आचार संहिता भी लागू कर दिया गया है, ऐसे में अब देखने में मजा आएगा यहां कौन सी पार्टी के इस बार चुनाव में अपना दम दिखाती है। भारतीय जनता पार्टी के जहां एक से एक विधायक पार्टी का साथ छोड़ कर जा रहे हैं, वहीं समाजवादी पार्टी उत्तर प्रदेश चुनाव में इस बार भाजपा को कड़ी टक्कर दे सकती है। आइए जानते हैं मिर्ज़ापुर के निवासियों की इस मामले में क्या राय है।

मिर्ज़ापुर, क्या कमल को टक्कर देगी सपा(Samajwadi Party) और बसपा(Bahujan Samaj Party)?

मिर्ज़ापुर में विधानसभा की कुल 5 सीट है ऐसे में सुरक्षित सीट छानबे का मिजाज जानने के लिए हलिया बाजार के लोगों से सवाल पूछे गए। वहां के लोगों ने बताया कि रोटी कपड़ा और मकान व्यक्ति की मूलभूत जरूरत होती है, उन्हें वह सब चीज अब मिलने लगी है। अलबत्ता स्थानीय अधिकारी एवं नेताओं की वजह से योजनाओं का लाभ राजनीतिक चश्मे से देख कर दिया जा रहा है। लेकिन उम्मीद तो जगी है कि, भाजपा रहेगी तो योजना का लाभ जरूर मिलता रहेगा।

वहीं कुछ लोगों ने बताया कि भाजपा को अगर नुकसान होगा तो वह मौजूदा विधायकों की वजह से होगा। भाजपा के अलावा सपा और बसपा के भी उम्मीदवार अच्छे मिले तो लड़ाई तगड़ी हो सकती है। 2012 के चुनाव की बात की जाए तो सीट पर भाजपा का एक खाता तक नहीं खुला था, लेकिन 2017 विधानसभा चुनाव में अपना दल एस के साथ गठबंधन करने की वजह से भाजपा को सभी सीटों पर विजय प्राप्त हुई थी। फिलहाल उत्तर प्रदेश में भाजपा का दबदबा है।

मिर्ज़ापुर नगर सीट पीलीकोठी के लोगों ने बताया कि इस बार यहां तो भगवा का ही शोर ज़्यादा है। लेकिन कुछ लोगों का कहना है कि इस सीट पर लगातार तीन बार समाजवादी पार्टी का कबजा रहा है और जनता इस बार बदलाव के मूड में है, तो सपा भी बाजी मार सकती है। कुछ लोग जहां भगवा रंग फैलाने की फिराक में हैं, वहीं कुछ लोग वह को भारतीय जनता पार्टी की जीत आश्वस्त लग रहे है। भाजपा के वरिष्ठ नेता ओमप्रकाश सिंह की कर्म स्थली रही चुनार क्षेत्र के लोग उनके बेटे से नाराज हैं।

उनके बिरादरी के लोग कहते हैं कि ओमप्रकाश के काम की वजह से उनके बेटे को विधायक बनाया गया, लेकिन उन्होंने न क्षेत्र का ध्यान दिया और नाही अपने समाज का, फिर भी जब तक वे हैं, उनके साथ ही रहेंगे। अदलहाट बाजार के लोगों ने बताया कि मंत्री रहे ओम प्रकाश सिंह ने काम बहुत किया है। भाईखुर्द के रहने वाले लोगों ने बताया कि जब विधायक को चिंता नहीं है, तो हम भी अपने लिए नई राह देखेंगे। वहीं कुछ लोगों ने बताया कि चुनाव स्थानीय मुद्दों पर नहीं होगा, बल्कि ध्रुवीकरण तो होगा ही। ब्राह्मण और बिंदु बाहुल्य मंझवा और मड़िहान सीट पर भी लोगों की चर्चा में ज्यादातर भाजपा के पक्ष में लोग बोलते नजर आया।