विंध्याचल नाव हादसा: हादसे के मुख्य आरोपी नाविक और फोटोग्राफर को पुलिस ने किया गिरफ्तार

नाविक और फोटोग्राफर पर ख़राब मौसम में नाव में जरूरत से ज्यादा सवारी बैठाने का आरोप
 
नाव हादसा
8 सितंबर को नाव हादसे में एक ही परिवार के 12 लोग गंगा में डूब गए थे जिसमें से 5 लोग अभी तक लापता


मिर्ज़ापुर: 8 सितंबर का दर्दनाक हादसा कौन भूल सकता है। इस हादसे में एक ही परिवार के 5 लोग अभी भी लापता है परिवार अपने लोगों की तलाश में आज भी आंखे बिछाए बैठे है कि क्या पता कुदरत का कोई करिश्मा हो जाए और उनके बच्चें और खोए हुए लोग उन्हें वापस मिल जाए। 

दरअसल यह हादसा तो था ही नहीं इसे हादसा बनाया गया था क्योंकि ऐसे समय में जब बरसात का मौसम है और सभी को पता है कि मौसम कभी भी अपना रूख बदल सकती है ऐसे में नाव पर इतने लोगों को लेकर ले जानें से पहले नाविक ने क्यों नही सोचा? थोड़े पैसे की लालच में नाविक इतना लालची हो गया कि उसने नाव में क्षमता से अधिक लोगों को बैठा लिया नतीजा सबके सामने है आज भी नाव में सवार 5 लोगों का कोई अता-पता नही है। 
 

इस हादसे के लिए नाविक के साथ- साथ फोटो ग्राफर को भी जिम्मेदार बताया जा रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि नाविक को अपेक्षा से ज्यादा सवारी बैठाने के लिए फोटोग्राफर ने ही उकसाया था। हालांकि दोनों आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है लेकिन समय पर अगर नाविक और फोटोग्राफर के अलावा परिवार के लोगों नें भी समझ दिखाई होती तो यह हादसा नहीं होता। 

बता दे कि इस मामलें में थाना विन्ध्याचल पर 9 सितंबर को बड़का सिंधनपुरा थाना सिमरी जिला बक्सर, बिहार के रहने वाले विकास कुमार ओझा ने नाविक और फोटोग्राफर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। जिसमें नाविक नें प्रशासन के निर्देशो का उल्लंघन किया और दर्शनार्थियों को प्रेरित करके नाव में बैठा करके नाव को गंगा के दूसरे तट तक ले गया, जबकि उसपार ले जाने का कोई औचित्य नही था इसके अलावा नाव में निर्धारित संख्या से अधिक लोगों को बैठाया गया था और खराब मौसम एवं दर्शानार्थियों द्वारा मना करने के बावजूद भी नाव को दूसरे तट से वापस घाट पर ला रहा था जो हादसे का कारण बना। आज विन्ध्याचल पुलिस ने अमरावती चौराहे के पास से लगभग 11.00 बजे नाविक गौतम और प्रदीप निषाद (फोटोग्राफर) को गिरफ्तार कर लिया। 

रिपोर्ट- रवि यादव, जिला संवाददाता
मिर्ज़ापुर ऑफिशियल