पूर्व SP मंत्री Kailash Chaurasia के खिलाफ MP MLA Court द्वारा Warrant जारी, 22 नवंबर को होगा सुनवाई

MP MLA Court ने, सपा शासनकाल में पूर्व मंत्री रहे कैलाश चौरसिया और उनके छह सहयोगियों के खिलाफ वारंट जारी कर दिया है, इस मुकदमे की सुनवाई 22 नवंबर को होगी।

 
image source : news track

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ लड चुके है चुनाव।

Mirzapur, Digital Desk: उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री एवं सपा के पूर्व सदस्य कैलाश चौरसिया के खिलाफ वारंट जारी कर दिया गया है। एमएलए कोर्ट ने उनके इस मुकदमे के ऊपर उन्हें 22 नवंबर तक हाजिरी देने की नोटिस भी जारी कर दी है। इसके पहले कोर्ट ने कैलाश और उनके सहयोगियों को कई बार कोर्ट में उपस्थित रहने के अवसर दिए। क्योंकि कैलाश और उनके सहयोगियों के विरुद्ध मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट मिर्ज़ापुर ने 5 सितंबर 2014 को आरोप तय कर दिए थे। लेकिन कोई भी सदस्य वहां उपस्थित नहीं हुआ, जिसके बाद कोर्ट ने उनके खिलाफ वारंट जारी कर दिया है।

क्या है मामला?
मिर्ज़ापुर कोतवाली पुलिस का आरोप था कि पूर्व मंत्री कैलाश चौरसिया घंटाघर चौराहे पर अपने समर्थकों के साथ झंडा लहराते हुए चौराहे पर काफी देर रुक गए और वहां नारेबाजी करने लगे। जिसकी वजह से सार्वजनिक मार्ग बहुत देर समय तक अवरुद्ध रहा। जबकि प्रशासन द्वारा उन्हें मात्र 3 गाड़ियों की ही इजाजत दी गई थी, लेकिन कैलाश चौरसिया ने प्रशासन की बात को नहीं माना और बड़े लंबे समय तक वे नारेबाजी करते रहे और घंटाघर चौराहे पर जाम बढ़ता गया। जिसकी वजह से कैलाश चौरसिया और उनके सहयोगियों के ऊपर प्रशासन द्वारा केस दर्ज किया गया।

अन्य सहयोगियों पर भी आरोप और केस दर्ज -
कैलाश चौरसिया के साथ एमपी एमएलए कोर्ट ने उनके साथियों को भी कोर्ट में उपस्थित होने का हिदायत दी है। बाकी सदस्यों के खिलाफ भी कोर्ट द्वारा वारंट जारी किया गया है इनके नाम प्रकाश चौरसिया, डॉक्टर रविंद्र श्रीवास्तव, जवाहर मौर्य, जहीर सेंट एवं मुन्नी यादव है।

पहले भी हो चुका है विवाद -
यह पहली बार नहीं है कि कैलाश चौरसिया का नाम किसी विवाद में आया हो। इसके पहले भी कैलाश चौरसिया के खिलाफ मिर्ज़ापुर के एक पोस्टमैन के साथ बदतमीजी करने का आरोप था।

प्रधानमंत्री के खिलाफ लड़ा था चुनाव -
कैलाश चौरसिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ भी वाराणसी से चुनाव लड़ा था। उन्हें समाजवादी पार्टी के टिकट से चुनाव लड़ाया था, लेकिन वह चुनाव में पराजित हुए थे।