Corona Massacre in Varanasi: वाराणसी में देखने को मिला कोरोना विस्फोट, 1 दिन में 120 से ज्यादा मामले, 1 महीने का बच्चा भी संक्रमित

बनारस में कोरोनावायरस की बढ़ती हुई महामारी को अनदेखा किया जा रहा है। ऐसे में प्रदेश में कल 120 लोग संक्रमित पाए गए।

 
image: india spend
1 महीना का शिशु भी कोरोना संक्रमित।

उत्तर प्रदेश, Digital Desk: पूर्वांचल में अब करोना एक बार फिर अपनी रफ्तार पकड़ते हुए नजर आ रहा है। केवल एक वाराणसी में ही बुधवार को 7 बच्चों समेत 120 लोग संक्रमित पाए गए। संक्रमितों को BHU में इलाज के लिए भेजा गया है, जिसमें 1 महीने का बच्चा भी शामिल है। इससे पहले बनारस में 27 मई को 1 दिन में 144 संक्रमित मरीज मिले थे जो पिछले साल की बात है। वही चंदौली में छह, गाजीपुर एवं आजमगढ़ में पांच, जौनपुर, भदोही, मिर्ज़ापुर में तीन और सोनभद्र में एक संक्रमित मरीज पाए गए हैं। संक्रमित मरीजों को होम आइसोलेशन में रखा गया है।

विस्तार:

वाराणसी जिले में कोरोना लैब में लगभग 5000 लोगों की रिपोर्ट बुधवार को आई। जिसमें से 3 बच्चे संक्रमित पाए गए, वहीं सबसे ज्यादा संक्रमण बीएचयू में मिला, इसमें मरीज और कर्मचारी दोनों संक्रमित पाए गए हैं। वही बीएसडब्ल्यू में 9 हरिओम नगर कॉलोनी में 2, अशोक विहार कॉलोनी में दो, पांडेपुर में तीन, दुर्गाकुंड में भी तीन, लहरतारा में तीन, भेलूपुर में 2, नीची बाग चार एवं सिगरा में तीन संक्रमित मरीज पाए गए हैं। जिले में संक्रमण चारों तरफ से बढ़ रहा है, ऐसे में ट्रामा सेंटर के सेटिंग बूथ में भी चार लोग संक्रमित पाए गए हैं।

संक्रमित लापता:

जिले में 120 लोग संक्रमित पाएगा जिसमें से 37 लोगों को स्वास्थ्य विभाग ट्रेस नहीं कर पा रही है। कुछ लोगों के मोबाइल स्विच ऑफ है, तो किसी का नंबर आउट ऑफ सर्विस है। सीएमओ संदीप चौधरी ने बताया कि जिन से संपर्क नहीं हो रहा पा रहा है, उनके घर स्वास्थ्य विभाग की टीम भेजी जाएगी।

बनारस में अकेले 15 गुना संक्रमण के कार्य केस बढ़ते हुए नजर आ रहे हैं। यह संक्रमण बाहर से आने वाले लोगों की तरफ से आ रहा है, जो मकर संक्रांति का उत्सव मनाने बाहर से आए है।

एयरपोर्ट:

बाबतपुर एयरपोर्ट पर भी 2 यात्री संक्रमित पाए गए। जिसमें से एक निवासी झारखंड का है, तो दूसरा मऊ का, दोनों यात्री शारजाह जा रहे थे। दोनों यात्री एयरपोर्ट पर जांच करवाने गए, तो उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। फिलहाल इन्हें एयरपोर्ट पर ही रोक दिया गया है और बाद में घर भेज दिया गया।

प्रशासन:

बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्रशासन ने डोर टू डोर होम निगरानी एवं घर-घर जाकर दुआएं बांटने की योजना बनाई है एवं सख्ती का पालन करते हुए, शत-प्रतिशत टीकाकरण करने की बात भी कही है।