Income Tax Raid: आयकर विभाग ने मारा अखिलेश यादव के करीबियों के घर छापा, कई नेताओं का बैंक अकाउंट सीज़

सोमवार को जैनेंद्र उर्फ नीटू को लेकर आयकर विभाग की टीम बैंक पहुंच गई।जहां नीटू और उनके परिवार के नौकर को खुलवाया गया है, इसकी जांच की गई।

 
image : INDIA TV
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के करीबी नेताओं के घरों पर रेड।
उत्तर प्रदेश, Digital Desk: सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के गरीबी नेता एवं पूर्व में पार्टी के ओएसडी के घरों में आयकर विभाग ने छापेमारी शुरू कर दी है। यह छापेमारी सोमवार देर रात तक चली और आज मंगलवार को भी आयकर विभाग की टीम जांच करेगी। फिलहाल लखनऊ, आगरा, मैनपुरी और दिल्ली में चल रही है। जांच में आयकर विभाग को जो संपत्ति बैंक लॉकर और कंपनी के दस्तावेज मिले हैं, उनका वेरिफिकेशन कराया जा रहा है। शनिवार सुबह यह छापेमारी शुरू की गई थी। इसके बाद सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के निजी सचिव नीटू यादव, करीबी दोस्त राहुल भसीन, मनोज यादव और ठेकेदार जगत सिंह के घर पर लगभग 60 घंटों से भी ज्यादा तक आयकर विभाग जांच करती रही। सोमवार को तो आयकर विभाग की टीम नीटू को लेकर बैंक ही पहुंच गई, जहां उसके परिवार के लॉकर की जांच की गई। जानकारी के मुताबिक बैंक  से कुछ जरूरी दस्तावेज आयकर विभाग के हाथ लगे हैं।

राजीव राय:

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव एवं प्रवक्ता राजीव राय और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के करीबी लोगों पर आयकर विभाग की रेड के बाद अब उत्तर प्रदेश की सियासत नया मोड़ लेने वाली है। हालांकि समाजवादी पार्टी के राजीव राय का यह कहना है कि, आयकर विभाग को महज उनके पास ₹17000 ही मिले हैं। लेकिन आयकर विभाग को राजीव के घर से जो दस्तावेज मिले हैं, उसके मुताबिक उनके पास करोड़ों रुपए की चोरी करने का आरोप है। असल में राजीव राय कई शैक्षणिक संस्थाएं चलाते हैं एवं आईटी विभाग को इसमें टैक्स चोरी मिली है। रविवार को मऊ में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजीव राय के कैंप कार्यालय में आयकर विभाग की जांच समाप्त हो गई और विभाग के अधिकारियों के अनुसार जांच में मिले सबूतों के आधार पर करोड़ों की चोरी की आशंका जताई जा रही है। आयकर विभाग का मानना है कि स्कूल के चंदे में हेराफेरी की गई है। वहीं राजीव राय के लगभग 14 बैंक अकाउंट और लॉकर को भी सीज कर दिया गया है।

बीजेपी पर निशाना साधा:

छापेमारी के बाद एसपी नेता राजीव राय  तो रविवार सुबह लखनऊ पहुंचे और वहां समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने अपनी बात रखी और भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा। जानकारी के अनुसार छापेमारी में 14 निजी एवं सार्वजनिक बैंक में 2 दर्जन से भी ज़्यादा लॉकर को सीज कर दिया गया है। यही नहीं प्रारंभिक जांच में समाजवादी पार्टी नेता के बेंगलुरु में संचालित स्कूल और कॉलेज में डोनेशन के नाम पर मोटी रकम की बात भी सामने आई है। ऐसे में राजीव ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा।

मनोज यादव के घर भी छापेमारी:

 समाजवादी पार्टी के सदस्य एवं आरएसपीएल ग्रुप के मालिक मनोज यादव के घर भी आयकर विभाग की टीम ने छापेमारी की थी। जिले में मनोज यादव के तीन आवाज तत्काल छापेमारी से सपा कार्यकर्ताओं में हड़कंप मच गई। 3 दिन के कार्यवाही के बावजूद भी इनकम टैक्स के हाथ कुछ नहीं लगा। सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए पूरी सिक्योरिटी के साथ छापेमारी की प्रक्रिया की गई थी। लेकिन आयकर विभाग की तरफ से कोई भी जानकारी नहीं मिली कि, मनोज यादव के घर से क्या मिला। मनोज यादव अखिलेश यादव के बड़े करीबी माने जाते हैं एवं मैनपुरी जिले के वंशिगोहरा कोतवाली क्षेत्र के निवासी हैं। आयकर विभाग की जांच पड़ताल के बाद मनोज यादव ने तंज कसते हुए कहां कि, यह सरकारी प्रक्रिया है लेकिन एक तरफा हो रही है। यादव ने कहा कि जो लोग प्रक्रिया करवा रहे हैं, उनको करवाने दो शायद थोड़ी खुशी उनको भी मिल जाएगी। उन्होंने कहा ज़िले में मैं सबसे ज्यादा टैक्स देता हूं, मेरे पास सभी के डॉक्यूमेंट हैं।