UP ELECTION EXIT POLL: 10 फरवरी से 7 मार्च तक एग्जिट पोल पर चुनाव आयोग ने लगाई रोक

उत्तर प्रदेश में एग्जिट पोल के प्रकाशन एवं प्रसारण पर चुनाव आयोग ने 10 फरवरी से 7 मार्च के बीच तक रोक लगा दी।

 
image: NDTV.COM
आखरी चरण के चुनाव तक एग्जिट पोल पर रहेगी रोक।

उत्तर प्रदेश, Digital Desk: उत्तर प्रदेश में एग्जिट पोल के प्रकाशन एवं प्रसारण पर चुनाव आयोग(Election Commission) ने 10 फरवरी से 7 मार्च के बीच तक में संपूर्ण तरह से रोक लगा दी है। उत्तर प्रदेश(UP ELECTION 2022) के चुनाव आयुक्त ने सोमवार को इस बात का ऐलान करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में पहले चरण के मतदान 10 फरवरी की सुबह 7:00 बजे से आखरी चरण की वोटिंग यानी 7 मार्च की शाम 6:30 बजे के बीच एग्जिट पोल के प्रसारण पर रोक लगा दी गई है। उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि, केंद्रीय चुनाव आयोग के निर्देश के मुताबिक विधानसभा चुनाव की गंभीरता को देखते हुए राज्य में 10 फरवरी से 7 मार्च तक चुनाव संबंधित एग्जिट पोल का प्रिंट या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया द्वारा प्रसारण करना प्रतिबंधित होगा। इसका उल्लंघन करने पर कानूनी कार्यवाही का रास्ता चुना जाएगा।

विस्तार:

उत्तर प्रदेश चुनाव की गंभीरता को देखते हुए इलेक्शन कमीशन ने 10 फरवरी से लेकर 7 मार्च तक एग्जिट पोल के प्रकाशन एवं प्रसारण पर संपूर्ण तरह से रोक लगा दी है। जिसके बाद अब कोई भी व्यक्ति एग्जिट पोल पर चर्चा नहीं करेगा।

यह भी पढ़े: UP ELECTIONS 2022: क्या होगी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस का हाल, क्या कहते है फैक्ट्स और इतिहास, जानिए

उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) में 403 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव होने वाले हैं। राज्य में 10 फरवरी से 7 मार्च तक 7 चरणों में वोटिंग की प्रक्रिया की जाएगी ऐसे में 10 फरवरी को पहले चरण में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 11 जिलों की 58 सीट पर, वहीं दूसरे चरण में 14 फरवरी को 9 जिलों की 55 सीट पर, फिर 20 फरवरी को तीसरे चरण में 16 जिलों की 59 सीट पर मतदान होंगे, चौथे चरण में 23 फरवरी को 9 जिलो की 60 सीटों पर, पांचवें चरण में 27 फरवरी को 11 जिलों की 60 सीटों पर, छठे चरण में 3 मार्च को 10 जिलों की 57 सीट पर और आखिरी चरण में 7 मार्च को 9 जिलों की 54 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। इसके बाद 10 मार्च को नतीजों का ऐलान भी किया जाएगा।

पिछले चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को प्रचंड बहुमत से जीतने की थी। लेकिन इस बार समाजवादी पार्टी और कांग्रेस भारतीय जनता पार्टी के वोट काटने एवं चुनाव में कड़ी टक्कर देने की तैयारी में है। ऐसे में इस बार का चुनाव पिछले चुनाव से भी ज्यादा रोमांचक होगा।