इनकम टैक्स को लगी "समाजवादी इत्र" की खुश्बू, अखिलेश के करीबी दोस्त पीयूष जैन के घर मिले 250 करोड़ रुपए

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट समाजवादी पार्टी एवं उससे जुड़े सभी लोगों के पीछे पड़ गई है। ऐसे में अखिलेश यादव के करीबी पीयूष जैन के घर छापेमारी हुई जहां 250 करोड़ रुपए से ज्यादा का कैश बरामद हुआ।

 
image : zee mews

इनकम टैक्स ने किया पूरे घर को सील।

उत्तर प्रदेश, Digital Desk: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के पहले बड़ी हरदम देखने को मिल रही है। यह हड़कंप समाजवादी पार्टी के नेताओं एवं उनसे जुड़े लोगों को काफी परेशान कर रही है क्योंकि पिछले 1 हफ्ते में समाजवादी पार्टी एवं उससे संबंधित लोगों के घरों पर इनकम टैक्स की रेड पड़ रही है एवं घंटो घंटो तक छापेमारी का कार्य चल रहा है। ऐसे में अन्य समाजवादी पार्टी के नेताओं की सिट्टी-पिट्टी गुम है, उन्हें भी डर लग रहा है कि कहीं अगली छापेमारी उनकी यहा न हो जाए।

कानपुर में छापेमारी:

समाजवादी पार्टी के करीबी अखिलेश यादव के मित्र पीयूष जैन के घर इनकम टैक्स की छापेमारी पड़ी, टैक्स की इस छापेमारी में आयकर विभाग के लोगों को बड़ी सफलता हाथ लगी, जिनमें उन्हें  250 करोड़ का कैश हाथ लगा। जिसको देखकर आयकर विभाग के भी होश उड़ गए।

आनंदपुरी में रहने वाले पीयूष जैन के घर आयकर विभाग की टीम नोट गिनने की मशीन लेकर पहुंची थी। बता दिया आयकर विभाग को सूत्रों के अनुसार पता चला कि, पीयूष जैन जो कन्नौज के बहुत बड़े व्यापारी हैं, उनके घर ब्लैक मनी है। आयकर विभाग में पीयूष जैन के घर छापेमारी की जहां उन्हें 250 करोड़ रुपए का कैश मिला।

बनाया था समाजवादी इत्र:

बता दे पीयूष जैन अखिलेश यादव के काफी करीबी मित्रों में से एक माने जाते हैं। उन्होंने अखिलेश यादव की समाजवादी इत्र बनाने में काफी बड़ी भूमिका निभाई थी। आईटीआई विभाग ने पीयूष जैन के मुंबई, कन्नौज और कानपुर के ठिकानों पर गुरुवार सुबह छापेमारी की थी। तीनों जगह अभी दो-तीन दिन तक कार्यवाही चलेगी। आईटी विभाग को कई सारे डॉक्यूमेंट हाथ लगे हैं, जिस पर पीयूष जैन पर इनकम टैक्स की चोरी के अलावा खेल कंपनियां बनाकर अच्छी खासी रकम इधर-उधर करने का आरोप भी लगाया जा रहा है।

बुधवार देर रात को मुंबई से इनकम टैक्स विभाग की 2 टीम कानपुर पहुंची थी। इसमें से एक टीम ने कन्नौज में पीयूष के ठिकाने पर छापा मारा और एक टीम ने कानपुर के आनंदपुरी वाले पीयूष गोयल के बंगले पर रेड डाली। फिलहाल आईटी विभाग की जांच जारी है और 250 करोड़ रुपए खबर सुनकर लोग हक्के-बक्के हो गए हैं।