आम आदमी के बजट से बाहर हो जाएगा सरसो का तेल, इतनी महँगा की कोई खरीद भी न पाए, पढ़े मौजदा दाम की कीमत

लगभग ₹200 का हो गया है सरसों का तेल, इतना महंगा कि आम आदमी अपने सपने में बस उसे खरीद सकता है।

 
image source : India Mart


किराने की दुकान में 200 रुपये का बिक रहा है सरसो का तेल।

मुम्बई, डिजिटल डेस्क: कोरोना इस वैश्विक महामारी ने सबकी खबर को तोड़ कर रख दी है। कोरोना के कारण लॉकडाउन लगने की वजह से कई सारी चीजों का उत्पादन बंद हो गया। जिसके बाद जब लाभ नाम हटा तो उत्पादन को लेकर कई सारे प्रतिबंध लगा दिए गए, जिसकी वजह से बिक्री पर ज्यादा पैसे लगने लगे।

इसका असर सबसे ज्यादा पेट्रोल और तेल की कीमत पर पड़ा है। पेट्रोल जहां शतक बना चुका है, वही सरसों का तेल एवं रिफाइंड वालों दोहरा शतक लगाने की होड़ में है। जानकारों के मुताबिक बताया जाता है कि मौजूदा सरसों के तेल का पैकेट ₹178 में आ जाता था, लेकिन अब में 5 से ₹8 की बढ़ोतरी हो गई है। जिसकी वजह से वह ₹185 का बिक रहा है। वहीं अगर किराने की दुकान पर यह समान जाएगा तो लगभग ₹200 का बिकेगा। इसका मतलब यह है कि सरसों के तेल ने दोहरा शतक दिखा दिया है।


वहीं अगर नेताओं से बात की जाए तो नेताओं ने यह जवाब दिया है कि सरसों के तेल में बाकि तेल की मिलावट पर सरकार ने जो रोक लगाई है, उसकी वजह से सरसों के तेल के दाम ज्यादा बढ़ गए हैं।

सरसों का तेल ही नहीं रिफाइंड तेल में भी कीमत की उछाल भी है। चीनी में लगभग ₹4 की बढ़ोतरी हुई, वहीं सोयाबीन में भी लगभग ₹15 की बढ़ोतरी हो गई है। जिसने आम आदमी की कमर को तोड़ कर रख दिया है। देखना यह है कि आम आदमी को अब और कितने बुरे दिन देखना होंगे। सरसों का तेल इतना महंगा हो गया कि अब आप में आदमी को पाम तेल का इस्तेमाल करना पड़ रहा है।