Makar Sankranti 2022: सुख-समृद्धि पाने के लिए मकर संक्रांति के दिन के लिए यह खास उपाय, जरूर बदलेगी आपकी किस्मत

मकर संक्रांति का महापर्व खास होता है, इस दिन प्रत्यक्ष देवता भगवान सूर्य देव की पूजा की जाती है और इस दिन दान का भी बड़ा महत्व होता है।

 
image: the hans india

जाने मकर संक्रांति का खास महत्व।

Digital Desk: नए साल के पहले महीने यानी कि जनवरी में मकर संक्रांति के बड़े पर्व की शुरुआत होती है। मकर संक्रांति का महापर्व 14 जनवरी 2022 को मनाया जाएगा। मकर संक्रांति का यह महा पर्व उत्तर भारत में नहीं बल्कि दक्षिण के एक भी कई कई भागों में अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग नाम से मनाया जाता है। इस महापर्व के दिन हम प्रतिदिन प्रत्यक्ष दर्शन देने वाले सूर्य देवता का उत्तरायण हो जाता है। सूर्य के मकर राशि से मिथुन राशि के काल को उत्तरायण काल कहा जाता है। इस दिन उत्तरायण वाले दिन, दिन बड़ा होता है और रात छोटी होती है। सनातन परंपरा के अनुसार उत्तरायण काल में जन्म लेना ही नही बल्कि मृत्यु को प्राप्त करना भी उत्तम माना जाता है। आइए जानते हैं इस खास पर्व के बारे में।

दान:

मकर संक्रांति के दिन दान का विशेष महत्व माना जाता है। इस दिन पूर्ण फल की प्राप्ति पाने के लिए किसी मंदिर में जाकर चावल,दही, आटा, गेंहू, काला तेल, सफेद तिल, लाल मिर्ची, आलू और अपने सामर्थ अनुसार कुछ भी दान जरूर करना चाहिए। मान्यता ऐसी है कि इस दिन दिया गया हुआ दान जीवन से जुड़े सभी कष्टों को दूर करता है।

मकर संक्रांति का माहाउपाए:

• मकर संक्रांति के महापर्व पर सूर्य से संबंधित दोष को दूर करने के लिए लाल चंदन, घी और आटा दान देना चाहिए।

• चंदन ग्रह से जुड़े दोष को दूर करने के लिए कपूर, घी, दूध, दही दान देना चाहिए।

• मंगल ग्रह को दूर करने के लिए गुड़, शहद, मसूर की दाल का दान करना चाहिए।

• बृहस्पति ग्रह को दूर करने के लिए धनिया, मिश्री, सूखा तुलसी पत्ता दान करना चाहिए।

• माना जाता है कि इस दिन शनि देव अपने पिता सूर्य से मिलने आते हैं। ऐसे में इस दिन सूर्य देव के साथ शनि देव की भी पूजा और उपाय भी करना चाहिए, यदि कुंडली में शनि दोष है। तो मकर संक्रांति के दिन काला तेल, सफेद तिल दान करना चाहिए।

करिए यह पाँच कार्य:

• तिल के तेल से मालिश करनी चाहिए।

• मकर संक्रांति पर तिल का उबटन लगाइए।

• यदि किसी नदी या सरोवर तीर्थ आदि में न जा पाए, तो पानी में गंगा जल मिलाकर स्नान करिए।

• सुख सौभाग्य और श्री की प्राप्ति के लिए पूजा के बाद तिल से हवन करिए।

• मकर संक्रांति के दिन तिल से बने हुए खाद्य पदार्थ का सेवन कर लिया।