PM SECURITY BREACH: प्रधानमंत्री के पंजाब दौरे के दौरान हुई सुरक्षा चूक मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई

इस मामले में गृह मंत्रालय ने एक जांच कमेटी का गठन किया है। जिस कमेटी में 3 सदस्य होंगे एवं इस मामले पर बड़ा फैसला लेंगे।

 
image: PGURUS
पंजाब दौरे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई थी चूक।

नई दिल्ली, Digital Desk: पंजाब दौरे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा सिक्योरिटी में हुई चूक मामले में आज शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगी। प्रधान न्यायाधीश एवं अन्य सदस्यों की पीठ ने गुरुवार को वरिष्ठ अधिवक्ता मनिंदर सिंह से उस याचिका पर गौर किया, जिसमें यह बताया गया कि, पंजाब में बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में गंभीर चूक हुई है। जिसके चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पंजाब की एक रैली में शामिल हुए बिना ही दिल्ली वापस लौटना पड़ गया था।

विस्तार:

याचिका में उन्होंने सुरक्षा उल्लंघन की गहन जांच पंजाब के डीजीपी एवं मुख्य सचिव को बर्खास्त करने की मांग है। इसके साथ ही भटिंडा जिला न्यायाधीश को प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा के लिए पुलिस बंदोबस्त से संबंधित सभी सबूत को अपने कब्जे में लेने का निर्देश दिया है। याचिका में घटना पर रिपोर्ट लेने पंजाब सरकार को उचित दिशा निर्देश देने और जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्यवाही करने की एवं इस तरह के उल्लंघन करने की जाँच की माँग की है।

फिरोज़पुर जाने वाले थे मोदी:

सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता से कहा कि वे पंजाब सरकार और केंद्र सरकार की याचिका की कॉपी उन्हें सौंप दें। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को पंजाब के फिरोजपुर पहुंचकर 42 हजार करोड़ की विभिन्न परियोजनाओं की आधारशिला रखने वाले थे। लेकिन रास्ते में विरोध प्रदर्शन के कारण सड़क बंद थी, जिसके कारण उन्हें वापस लौटना पड़ गया था। उधर इस मामले में गृह मंत्रालय ने एक जांच कमेटी का गठन किया है। कमेटी को जल्द से जल्द रिपोर्ट सौपने की सलाह दी गई है। गृह मंत्रालय से मिली जानकारी के मुताबिक पंजाब के फिरोजपुर के दौरे में जिस तरह से प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक हुई, इस बात को लेकर गृह मंत्रालय काफी गंभीर है।

क्या था बड़ा खतरा:

प्रधानमंत्री को राष्ट्रीय शहीद स्मारक पहुंचकर परियोजनाओं का उद्घाटन करना था, इसके लिए वे हेलीकॉप्टर से जाने वाले थे, लेकिन खराब मौसम के कारण सड़क से जाने का निर्णय लिया गया। तभी रास्ते में विरोध प्रदर्शन के कारण सड़क बंद थी, जिसके चलते प्रधानमंत्री का काफिला 15-20 मिनट तक फ्लाईओवर पर रुका रहा। यह इसलिए इतना खतरे की बात है क्योंकि पाकिस्तान से लगने वाली पंजाब की सीमा पर साल 2021 में ड्रोन दिखने की 150 से भी ज्यादा घटनाएं हो चुकी हैं। ड्रोन में बम, ग्रेनेड और पिस्तौल जैसे हथियार लदे होते हैं, जिससे कोई भी हमला कर सकता है।