Barabanki News: बाराबंकी जेल में हिन्दू-मुस्लिम भाई-भाई, हिंदुओ ने रखा रोज़ा

बाराबंकी जिला कारागार में मुस्लिम कैदियों के साथ एक दर्जन से ज्यादा हिंदू कैदी भी रमजान माह में रोजा रख रहे हैं।

 
image: news18
मुस्लिम बंदियों के साथ हिंदू बंदी रोजा रखकर कौमी एकता की अनोखी मिसाल पेश कर रहे हैं।

बाराबंकी, Digital Desk: एक ओर जहां मुस्लिम (Muslim Loudspeaker Controversy) धर्मस्‍थल पर लाउडस्पीकर से अजान को लेकर बहस का दौर जारी है, तो दूसरी तरफ हनुमान जन्मोत्सव (Hanuman Janmotsav Controversy) के दौरान शोभा यात्रा पर पथराव होने के बाद माहौल काफी गर्म है, और यूपी हाई-अलर्ट पर है।

वहीं इस बीच लखनऊ से बगल बाराबंकी जिले (Barabanki News) की जेल में हिंदू-मुस्लिम एकता की अनोखी मिसाल देखने को मिल रही है। बाराबंकी जिला कारागार में मुस्लिम कैदियों के साथ एक दर्जन से ज्यादा हिंदू कैदी भी रमजान माह में रोजा रख रहे हैं। जेल प्रशासन की ओर से इन रोजेदारों को बकायदा इफ्तार भी कराया जाता है। मुस्लिम बंदियों के साथ हिंदू बंदी रोजा रखकर कौमी एकता की अनोखी मिसाल पेश कर रहे हैं।

बाराबंकी जेल में दिखी एकता की अनोखी मिसाल, एक दर्जन से ज्यादा हिंदू बंदी भी रख रहे रोजा

यह भी पढ़े: हनुमान जयंती शोभायात्रा में हुए पथराव के बाद हाई अलर्ट पर यूपी सरकार

आपको बता दें कि,

" कुछ सालों पहले जिला कारागार बाराबंकी में निरुद्ध करीब 200 हिंदू बंदियों ने मुस्लिम बंदियों के साथ रोजा रखकर एक नई शुरुआत की थी। तब से हिंदू बंदी जेल में रोजा रखकर हिंदू-मुस्लिम एकता की अनोखी मिसाल कायम कर रहे हैं। बाराबंकी जिला कारागार में इस समय करीब 1400 कैदी हैं, जिनमें से इस बार रमजान के पवित्र माह में कुल 250 बंदी रोजा रख रहे हैं। इनमे से कई मुस्लिम बंदी ऐसे हैं, जो नित्य रोजा रख रहे हैं। वहीं 15 हिंदू बंदी भी मुस्लिम बंदियों के साथ रोजा रख रहे हैं।"

जेल प्रशासन की ओर से रोजा (Ramzan) रखने वाले बंदियों को इफ्तार के समय खजूर, दूध, चाय समेत सभी जरूरी चीजें दी जा रही हैं। इसके अलावा जो कैदी स्वादिष्ट व्यंजन खाना चाहते हैं, उन्हे व्यंजन भी उपलब्ध कराया जाता है। हिंदू कैदी भी मुस्लिम कैदियों की तरह दिन भर रोजा रखते हैं और उनके साथ तड़के सुबह 3 बजे उठकर सेहरी करते हैं।